1. सफल किसान

वर्मी कंपोस्ट खाद से कम लागत में होगी अच्छी कमाई!

स्वाति राव
स्वाति राव

Benefits Of Compost

व्यापार कई प्रकार के होते हैं और उनके बजट के अनुसार ही लाभ भी मिलता है. अगर आपके पास इतना धन नही है कि आप बड़ा व्यापार कर सकें, तो उसके लिए आज हम आपको एक ऐसा बिजनेस का सुझाव देने जा रहे हैं जिसमें आपकी लागत कम होगी,  लेकिन मुनाफा अच्छा कमा सकते हैं. हम बात कर रहे हैं वर्मी कम्पोस्ट बिजनेस यानि केंचुआ खाद बनाने का बिजनेस. आइये जानते हैं वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाने की क्रिया और उससे होने वाला मुनाफा.

वर्मी कम्पोस्ट बनाने के लिए जरूरी वस्तु (Items Needed to Make Vermi Compost)

  • गोबर परली

  • जूट के बोरे

  • केंचुआ

  • पौधों के अवशेष

  • नीम के पत्ते

वर्मी कम्पोस्ट बनाने की विधि (How to Make Vermi Compost)

  • वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाने के लिए सबसे पहले आपको एक प्लास्टिक बैग की जरूरत पड़ेगी. आप चाहें तो इसकी जगह तिरपाल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.

  • जमीन में इसको बिछा दें.

  • इसको बिछाने के बाद इसमें पौधों के अवशेष यानि पौधों के सूखे पत्ते डाल दें.

  • इसके बाद इसमें नीम के पत्ते मिला दें, नीम का इस्तेमाल इसलिए कह रहे हैं क्योंकि नीम में पाए जाने औषधीय गुण, पौधों में होने वली बीमारियों से निजात दिलाता है.

  • अब इसके ऊपर में पुराना यानि 8 – 10 दिन रखा हुआ गोबर की परत चढ़ा दें. ध्यान रखें कम्पोस्ट खाद बनाने के लिए ताज़ा गोबर का उपयोग नही करते हैं.

  • इस तरह से आपका केंचुआ खाद का बेड तैयार हो गया. जो लगभग 2 से 3 फुट की चौड़ाई और 1 फुट की ऊंचाई वाला बन कर तैयार होगा.

  • अब आप इसमें केंचुआ डाल दें, बता दें कि 1 मीटर वर्ग में 250 केंचुए की आवश्यकता होती है. लेकिन जितना ज्यादा-ज्यादा केंचुए का उपयोग करेंगे आपका वर्मी खाद उतनी ही जल्दी तैयार होगी.

  • इस तैयार बेड को जूट के बोर से ढक दें.

  • समय-समय पर पानी का छिडकाव करें. इसका तापमान आपको 25 से 30 डिग्री रखना है.

  • आपको 70-80 दिन तक आपको इसकी नमी को बनाये रखना है. इसके बाद आपको यह क्रिया बंद कर देंगी.

वर्मी कम्पोस्ट को उपयोग करने के फायदे (Benefits Of Using Vermi Compost)

  • इसमें सभी प्रकार के पोषक तत्व, हार्मोन्स व जैम भी पाये जाते हैं. जबकि उर्वरकों में केवल नाइट्रोजन, फास्फोरस तथा पोटाश ही मिलते हैं.

  • केचुए के खाद का प्रभाव खेत में ज्यादा दिन तक बना रहता है और पौधों को पोषक तत्व मिला करता है जबकि उर्वरक का प्रभाव शीघ्र ही ख़त्म हो जाता है.

  • इससे भूमि जल्दी बंजर नही होगी, जबकि उर्वरक से जल्दी बंजर हो जाती है.

  • फसलों के आकार, रंग, चमक तथा स्वाद में सुधार होता है, जमीन की उत्पादन क्षमता बढ़ती है, फल स्वरूप उत्पाद गुणवत्ता में भी वृद्धि होती है

कितनी होगी कमाई (How Much Will You Earn)

वर्मी कंपोस्ट खाद फसल के लिए बहुत लाभदायी होती है. इसलिए इसकी बाज़ार में मांग भी बहुत है. इसको बेचने के लिए आप अपना सारा कंपोस्ट किसी कंपनी को या बड़े व्यापारी को टन के हिसाब से बिना पैकेजिंग के ही बेच सकते हैं. ऐसे में यदि आप अपनी खाद महज 10 रुपये किलो के हिसाब से भी बेचते हैं, तो आपको प्रति किलो पर 6.5 रुपये का मुनाफा होगा यानी 50 टन खाद से आपकी 3.25 लाख रुपये की कमाई होगी.

ऐसे ही कृषि से जुडी सभी खबरें जानने और पढने के लिए जुड़े रहिये कृषि जागरण हिंदी पोर्टल से.

English Summary: vermi compost fertilizer will earn good money in less cost

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News