MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सफल किसान

Success Story: कृषि परास्नातक करने के बाद बने IAS, अब नौकरी छोड़ बने कैबिनेट मंत्री, जानें पूरी कहानी

उड़ीसा के IAS अधिकारी वीके पांडियन ने कुछ ही समय पहले अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति में कदम रखा है. आईएएस अधिकारी रहने के समय से लेकर अभी तक इन्हें उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक का सबसे ख़ास सहयोगी के रूप में भी माना जाता था. कैबिनेट मंत्रीं के दर्जे के साथ ही इन्हें 5टी (ट्रांसफॉर्मेशनल इनिशिएटिव) का अध्यक्ष भी चुना गया है.

प्रबोध अवस्थी
मुख्यमंत्री नवीन पटनायक एवं कैबिनेट मंत्री IAS वीके पांडियन
मुख्यमंत्री नवीन पटनायक एवं कैबिनेट मंत्री IAS वीके पांडियन

आपने नौकरी को छोड़ कर खेती करने वाले लोगों के बारे में बहुत बार सूना होगा, लेकिन आज हम आपको जिस व्यक्ति के बारे में बताने जा रहे हैं उन्होंने कृषि से स्नातक और परास्नातक की डिग्री किया. इसके बाद IAS जैसी परीक्षा को उत्तीर्ण कर प्रसाशनिक सेवा भी दी. लेकिन अब नौकरी को छोड़ दिया, जिसके बाद उन्हें उड़ीसा वर्तमान पार्टी में कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है. दरअसल हम बात कर रहे हैं उड़ीसा के IAS अधिकारी वीके पांडियन की. इन्होने कुछ ही समय पहले अपने पद से इस्तीफा देते हुए राजनीति में कदम रखा है.

आईएएस अधिकारी रहने के समय से लेकर अभी तक इन्हें उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक का सबसे ख़ास सहयोगी के रूप में भी माना जाता है. कैबिनेट मंत्रीं के दर्जे के साथ ही इन्हें 5टी (ट्रांसफॉर्मेशनल इनिशिएटिव) का अध्यक्ष भी चुना गया है.

बचपन से रहा कृषि से जुड़ाव

वी कार्तिकेयन पांडियन (VK Pandian) का जन्म तमिलनाडु राज्य में हुआ था. इनका जन्म 29 मई 1974 को हुआ. वी कार्तिकेयन पांडियन एक दो नहीं बल्कि हिंदी, अग्रेजी, तमिल और उड़िया जैसी अन्य कई भाषों को बोलने और समझने के जानकार हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कृषि में लगाव के कारण उन्होंने कृषि से स्नातक और परास्नातक की डिग्री हासिल की , जिसके बाद उन्होंने भारत की सबसे कठिन मानी जाने वाली परीक्षा IAS को पास किया.

5टी (ट्रांसफॉर्मेशनल इनिशिएटिव) सचिव का पद बेहद अहम

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के बेहद करीब रहने वाले वीके पांडियन को यह पद प्रदेश की एक बड़ी जिम्मेदारी को सम्हालने के लिए दिया गया है. आईएएस रहते हुए भी वह नवीन पटनायक के बेहद करीबी माने जाते थे. अगर किसी को उस समय मुख्यमंत्री से मिलना हो तो सबसे पहले वीके पांडियन से ही मिलना होता था.

सब कलेक्टर, धर्मगढ़ से शुरू किया करियर

वीके पांडियन ने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 2000  से की थी सबसे पहले इन्हें उड़ीसा के धर्मगढ़ में सब कलेक्टर के रूप में नियुक्त किया गया था. लेकिन कुछ ही समय बाद इनकी योग्यता और अनुभव के आधार पर इन्हें मुख्यमंत्री कार्यालय में (CMO) में शामिल कर लिया गया.

यह भी देखें: धान की पराली से किसान ने की 31 लाख रुपये अधिक की कमाई, जानें कैसे मिली सफलता

इन्हें अपने कार्यकाल के दौरान कई बड़े बदलावों के लिए जाना जाता रहा है. यही कारण रहा की मुख्यमंत्री के सबसे ख़ास लोगों की सूची में इनका पहला नाम था.

English Summary: success story became IAS after doing Masters in Agriculture now left job to become cabinet minister IAS VK Pandian Published on: 29 October 2023, 12:05 PM IST

Like this article?

Hey! I am प्रबोध अवस्थी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News