Success Stories

खेती के साथ-साथ किसानों को प्रशिक्षित करते हैं पुष्पेन्द्र

पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम से खेती विषय पर सीधा संवाद करने का मिला मौका

बिहार सरकार ने किसान श्री पुरस्कार से किया सम्मानित

समस्तीपुर जिला के वारिसनगर प्रखंड के शेखोपुर गांव के किसान पुष्पेन्द्र कुमार सिंह को उदाहरण के तौर पर लिया जा सकता है। 56 वर्षीय पुष्पेन्द्र ने 40 वर्षों से खेती कर जिला में अपना अलग ही पहचान बनाए हुए हैं। उन्होंने छोटी उम्र में दादाजी एवं पिताजी के साथ खेती सीखा था। वर्तमान समय में दो एकड़ में केला एवं दो एकड़ में आम एवं लीची की खेती बड़े पैमाने पर करते हैं। वहीं धान, गेहूँ, मक्का की खेती 11 एकड़ में कर रहे हैं। ये खेती पूरी तरह से वैज्ञानिक पद्धति से करते हैं इसके साथ ही आजाद कृषि समूह चलाते हैं। इसमें किसानों की कुल संख्या बीस से अधिक है। इस समूह के अंतर्गत किसानों की चैपाल लगाकर किसानों को खेती के लिए प्रशिक्षित करते हैं। इसके अलावा वे मछलीपालन एवं पशुपालन भी करते हैं। वे अपने खेत में उपजे हुए अनाज को बाजार समितियों में बेचते हैं।

पुष्पेन्द्र ने खेती में बेहतरी के लिए देश के कई राज्यों में जाकर प्रशिक्षण प्राप्त कर प्रशस्ति पत्र हासिल किया। इतना ही नहीं देश के पूर्व राष्ट्रपति डाॅ. एपीजे अब्दुल कलाम से खेती विषय पर सीधा संवाद उन्होंने किया। इन्हीं सब कार्यों को देखते हुए बिहार सरकार ने किसान श्री पुरस्कार से सम्मानित किया।

 

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें-

पुष्पेन्द्र कुमार सिंह

ग्राम. पंचायत- शेखोपुर

जिला- समस्तीपुर, बिहार

मो.-7549435722

 



Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in