1. सफल किसान

आम, सागौन के पेड़ लगाकर कमा रहे लाखों का मुनाफा

आज जहां किसानों में परंपरागत खेती के साथ-साथ नई तकनीक से खेती करने की होड़ लगी हुई है. वहीं कुछ किसान खेती से कमाई करने के साथ ही पर्यावरण संरक्षण का कार्य करते हुए भी देखे जा रहे हैं. मध्य प्रदेश के बोलाई में एक किसान अपनी 7 बीघा जमीन से पैदावारी लेने के साथ-साथ ढाई सौ से भी अधिक आम व सागौन के पेड़ लगाकर हरियाली व पर्यावरण प्रेमी होने का परिचय दे रहे हैं. इस जमीन से यह किसान प्रतिवर्ष लाखों की कमाई कर रहे हैं और प्रकृति को संवारने में भी अहम भूमिका निभा रहे हैं.

लाखों कमा रहे किसान

गुलाना तहसील के अंतर्गत गांव बोलाई के किसान इसहाक खां मंसूर ने अपनी 7 बीघा जमीन को हरियाली की चादर ओढ़ा रखी है. किसान की 10 वर्षों की मेहनत की बदौलत अब इस जमीन पर 100 आम व 150 सागौन के पेड़ भी लग रहे हैं जिससे काफी हरियाली हो गई है. इसके अलावा किसान ने कुछ आंवला, नींबू और जामफल के पेड़ भी लगा रखे हैं. किसान इसी जमीन में पेड़ों के बीच गेहूं, चना, मसूर, आलू, प्याज, लहसुन व धनिया के साथ अन्य फसलों से प्रतिवर्ष 2 लाख से अधिक की कमाई ले रहे हैं. आम की फसल से भी 1 लाख रूपये की कमाई हो रही है. किसान इस तरह से अपने खेतों में अलग-अलग तरह के प्रयास करके अपनी बंजर जमीन की हरियाली की चादर ओढ़कर उससे प्रतिवर्ष 3 लाख से ज्यादा की कमाई कर पा रहे हैं.

बच्चों की तरह करते है पेड़ों की देखभाल

पर्यावरण प्रेमी किसान खां ने अपनी जमीन में लगाए इन पेड़ों की बच्चों से भी बढ़कर ज्यादा परवरिश की है. जिसके चलते उनकी जमीन में काफी हरियाली छाई हुई है. पेड़ों की घनी छांव के साथ ही सीजन के दिनों में आम के मीठे फलों का भी उन्हें स्वाद चखने को मिल रहा है. पिछले पांच वर्षों से उनका बगीचा आम के फल की पैदावारी को उगलने लगा है और हर वर्ष वह अन्य फसलों के अलावा एक लाख से अधिक में भी आम को बेच पा रहे हैं. गर्मी के दिनों में वह इन पेड़ों को एक माह में दो बार पानी देते हैं. तो इस तरह से वह अपने खेतों को हरा-भरा करने में लगे हुए हैं.

किशन अग्रवाल, कृषि जागरण

English Summary: Millions of profits earned from mango, teak trees

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News