Success Stories

केरल के शख्स ने घर की छत पर उगाया 40 से अधिक किस्म के आम

आज हम एक ऐसे शख्स की कहानी बताने जा रहे हैं, जो अपने घर की छत पर बागवानी करते हैं. अक्सर आपने देखा होगा कि कुछ लोग घर की छत पर किचन गार्डन बना लेते हैं या फिर सुंदर गमलों से सजा देते हैं. मगर एक शख्स ऐसा हैं, जिन्होंने घर की छत पर आम का बाग लगा दिया है. इतना ही नहीं, उन्होंने इस बाग में लगभग 40 से अधिक किस्म के आम उगाए हैं. इनका नाम जोसेफ फ्रांसिस है, जो केरल के एर्णाकुलम के रहने वाले हैं.

आम के बाग ने दिलाई पहचान

62 वर्षीय जोसेफ फ्रांसिस पेशे से AC टेक्नीशियन हैं, लेकिन उन्हें खेती करन बहुत पसंद है, क्योंकि उनके दादा-परदादा भी एक किसान हुआ करते थे. आज वह अपनी जीविका चलाने के लिए एसी का काम करते हैं, लेकिन खेती से उन्हें एक अलग ही प्यार करते हैं. उन्होंने खेती की शुरुआत में गुलाब और मशरूम आदि जैसी चीजों को उगाया, लेकिन आम के बाग ने उन्हें एक अलग पहचान दिलाई है. इसके अलावा छत पर कटहल, पपीता, करेला, भिंडी, टमाटर आदि भी उगाते हैं.

ये खबर भी पढ़े: 500 रुपए की लागत से मोती की खेती कर कमाएं 5 हजार, मन की बात में पीएम मोदी ने की इस किसान की तारीफ

ऐसे आया आम के पेड़ लगाने का आइडिया

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, उनके नानी के घर कई तरह के गुलाब थे, जिन्हें उनके मामा देश के कई अलग-अलग जगह से लेकर आए थे. उस समय कट रोज केवल बेंगलुरू में दिखा करते थे और केरल में ना के बराबर हुआ करते थे. उस दौरान कोच्चि के पास गुलाब का काफी बड़ा कलेक्शन था. इससे प्रेरणा लेकर आम के पेड़ लगाना शुरू कर दिया.

उनका कहना है कि जब आम बैग में उग सकते हैं, तो छत पर क्यों नहीं. उन्होंने बैग की जगह पीवीसी ड्रम्स में आम के पेड़ लगाए. उनकी यह मेहनत रंग लाई और घर की छत पर आम का बाग बन गया. आज वह अल्फांसो, नीलम, माल्गोवो समेत लगभग 40 से अधिक किस्म के आम उगाते हैं, जिनमें से कुछ पेड़ साल में 2 बार फल देते हैं. जोसेफ फ्रांसिस ने आम की एक नई किस्म बनाई है, जिसका नाम Patricia रखा है.उनका कहना है कि यह आम बाकी अन्य आमों में से सबसे मीठा होता है. उनके बाग को देखने कई लोग आते हैं.

ये खबर भी पढ़े: मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़कर खेती से कमाएं लाखों रुपए, जानें इस सफल किसान की कहानी



English Summary: Kerala man grows more than 40 varieties of mangoes on the roof of the house

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in