Success Stories

बेर वाले अंकल बागवानी से कमाते हैं सालभर में 45 लाख रुपए

हम अक्सर कहते और सुनते आए हैं कि देश के अन्नदाता को उनकी फसलों का सही मूल्य नहीं मिलता है, उन्हें खेती में मौसम और सूखे की मार झेलनी पड़ती है. ऐसे में कुछ किसानों की कहानियां एक मिसाल बनकर उभरती हैं. ऐसी एक और कहानी सामने आई है, जिसमें एक किसान बेर की बागवानी करके साल में लाखों रुपए कमा रहा है. इस किसान को हम एक सफल किसान की श्रेणी में रख सकते हैं. यह कहानी हरियाणा के गांव अहिरका में रहने सतबीर पूनिया किसान की है, जो बेर की बागवानी से लाखों रुपए कमा रहे हैं.   

बेर की बागवानी से बने लखपति

सतबीर पूनिया को बेर की बागवानी ने इतना प्रसिद्ध कर दिया है कि अब लोग उन्हें लोग बेर वाले अंकल के नाम से जानने लगे हैं. उनकी सालभर की कमाई लगभग 45 लाख रुपए तक की है. इसके साथ ही वह कम से कम 20 लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं. बता दें कि पिछले साल हरियाणा के कृषि मंत्री ने उन्हें सम्मानित भी किया.

पानी की कमी ने बदला खेती का तरीका

57 साल के सतबीर के पास लगभग 16 एकड़ जमीन है. इस पर वह पहले पुराने तरीके से खेती करते थे, लेकिन उन्हें खेती में पानी की समस्या ज्यादा होती थी. इस कारण लागत भी ज्यादा लगती था और मुनाफा भी कम मिलता था. इसके बाद उन्होंने खेती करना छोड़ दिया था. वह अपने खेत ठेके पर देकर दूसरा काम करना शुरू कर दिया.

पीएम मोदी की बात ने किया प्रेरित

एक बार किसान ने पीएम मोदी की बात सुनी कि खेती के अन्य विकल्पों के जरिए फलों और बागवानी द्वारा बेहतर मुनाफा कमा सकते हैं. उन्होंने साल 2017 में बेर की बागवानी करना शुरू किया. किसान ने 5 एकड़ जमीन पर थाई एप्पल प्रजाति के बेर लगाए, तो वहीं 8 एकड़ में उन्नत किस्म के अमरूद और 2 एकड़ में नींबू की बागवानी शुरू कर दी.

बाजार में मिलता है अच्छा भाव

इतने सालों की मेहनत से किसान खेती में सफलता हासिल कर पाया है. उन्हें बाजार में फसल का अच्छा भाव मिलता है. आज सतबीर पूनिया इतने मशहूर हो गए हैं कि लोग उनके बागों को देखने आते हैं. उनकी  कामयाबी ने राज्य स्तर तक एक अलग पहचान बनाई है.

ये खबर भी पढ़ें: Krishi Input Subsidy: किसानों को फरवरी-मार्च में हुई फसलक्षति का मिलेगा भुगतान, 4 से 11 मई तक करें आवेदन



English Summary: Farmer earning 45 lakh rupees a year from plum gardening

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in