1. सफल किसान

लंदन में बढ़ी इस भिंडी की डिमांड, किसान कमा रहे हैं लाखों रुपये

स्वाति राव
स्वाति राव

Ladyfinger Cultivation

हम सभी पैसा कमाने की चाह रखते हैं. मगर जब बात पैसा कमाने की आती है, तो हम सभी के मन में सवाल आता है कि पैसा कैसे कमाया जाए? आज हम आपको कुछ ऐसे सफल किसानों की सफलता की कहानी के बारे में बताने जा रहे हैं, जो वर्तमान में भिन्डी की खेती से हर महीने लाखों रूपए कमा रहे हैं.

बता दें कि महाराष्ट्र के धुले जिले के शिंदखेड़ गांवों में करीब 37 किसानों ने नये प्रयोग से भिंडी की खेती शुरू कर दी है. यह नया प्रयोग इस समय हर किसान के लिए प्रेरणादायी बन गया है. इस प्रयोग से भिन्डी की खेती (Ladies Finger Cultivation) करने  से किसान भाई हर महीने लाखों रूपए कमा रहे हैं. तो आइये सफल प्रयोग के बारे में विस्तार से जानते हैं.

कृषि विभाग ने दिया मार्गदर्शन (Agriculture Department Gave Guidance)

बताया जाता है कि डांगुरने शिंदखेड़ तालुका के दो गांव में किसानों ने भिन्डी की नई तकनीक से खेती कर अच्छी कामयाबी हासिल की है. इनकी क़ाबलियत को देखकर कृषि अधिकारी विजय बोरसे ने उन्हें विकल ते अचार योजना में भाग लेने के लिए कहा है. जिससे जुड़ने के चार महीने बाद कृषि विभाग का मार्गदर्शन और किसानों की मेहनत रंग लायी है.

इस खबर को पढ़ें - सुखदेव आलू के बीजों के स्टार्टअप से कमा रहे करोड़ों रुपए, जानें उनकी कहानी

इतना ही नहीं, उन्होंने भिंडी के निर्यात के लिए कृषि विभाग के माध्यम से मुंबई की एक कंपनी के साथ निर्यात समझौता भी किया है. इसके बाद किसान भिंडी सीधे लंदन में भेजकर अच्छा पैसा कमा रहे हैं.

750 क्विंटल भिंडी का किया निर्यात (Export Of 750 Quintals Ladyfinger)

किसानों का कहना है कि अब तक 750 क्विंटल भिंडी का निर्यात किया जा चुका है. इसके साथ ही उन्होंने कृषि विभागों के अधिकारियों का शुक्रिया अदा कर बताया है कि यह कृषि कार्यालय के मार्गदर्शन से ही संभव है. हम सभी किसानों की एकता, उनकी मेहनत और कृषि विभाग के मार्गदर्शन के कारण यह अनूठा प्रयोग सफल रहा.   

English Summary: due to this unique use of farmers, the demand for shindkhed ladyfinger is increasing in foreign countries

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters