1. ग्रामीण उद्योग

इस योजना का लाभ उठाकर शुरू करें नोटबुक बनाने का कार्य, होगा भारी मुनाफा

book

कम लागत में अगर आप भी कोई बड़ा व्यापार करना चाहते हैं, तो कॉपी (नोटबुक) बनाने का काम आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है. आपको पता ही है कि भारत में 61 प्रतिशत से भी अधिक की आबादी युवाओं की है. खुद सरकारी आंकड़ों से पता लगता है कि देश में विद्यार्थियों की संख्या 37 मिलियन से भी अधिक है. यही कारण है कि अनेक प्रकार के अध्ययन क्षेत्रों एवं कार्यों हेतु नोटबुक की जरूरत पड़ती है.

भारत में नोटबुक की मांग

भारत में नोटबुक इंडस्ट्री बड़ी संख्या में कॉपियों का निर्माण करती है, बावजूद इसके देश की बड़ी आबादी नोटबूक से वंचित है. बाज़ार में मिलने वाले नोटबुक ऊंचे ब्रांड के कारण जरूरत से अधिक महंगी है. ऐसे में अगर आप अच्छी क्वालिटी के साथ किफायती दामों पर नोटबुक का व्यापार करें, तो बड़े मुनाफे की संभावना प्रबल है.

कच्चा माल

इस काम को शुरू करने के लिए आपको बहुत अधिक पैसों की जरूरत नहीं है. आप कम रॉ मटेरियल में भी इस काम को कर सकते हैं. इसके लिए मुख्य तौर पर कोटेड अथवा अनकोटेड पेपर और गत्ते की आवश्यकता है. इसके साथ ही आपको कुछ छोटी मशीनों की भी जरूरत पड़ेगी, जैसे- पिन अप मशीन, एज स्क्वायर मशीन एवं कटिंग मशीन आदि.

ये खबर भी पढ़ें: भैंस और गाय के दूध में ये ख़ास अंतर

Paper

लागत

इस व्यव्साय को औसत 6 से 10 लाख रूपए में शुरू किया जा सकता है. अगर आप व्यापार को बड़े स्तर पर शुरू करना चाहते हैं, तो लागत भी अधिक आएगा.

मार्केट

इस व्यापार के लिए मार्केट बहुत आराम से आपको मिल जाएगा. अपने नजदीकी स्कूल,कॉलेज या शिक्षा संस्थान पर जाकर संपर्क करें. आप चाहें तो किसी स्कूल के पास कोई छोटी सी दुकान भी खोल सकते हैं.

लोन एवं सहायता

इस काम को शुरू करने के लिए आप बैंक से लोन भी ले सकते हैं. आप किसी भी बैंक से मुद्रा योजना का लाभ लेते हुए 10 लाख रूपए तक की सहायता प्राप्त कर सकते हैं. इस योजना के बारे में अधिक जानने के लिए इस लिंक पर जाएं.

English Summary: you can earn huge profit by notebook making business with the help of mudra yojna know more about it

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News