1. विविध

तमिल नाडु में केंद्रिय सरकार कि परियोजना का विरोध कर रहे छात्र कार्यकर्ता वलरमठी को गिरफ्तार किया गया

चेन्नई और सेलम के बीच केंद्र सरकार के आठ लेन के फील्ड एक्सप्रेसवे के खिलाफ विरोध के लिए छात्र कार्यकर्ता वलरमठी को मंगलवार को सलेम में पुलिस ने हिरासत में लिया। यह अभिनेता मंसूर अली खान और पर्यावरण विद्वानों पियुष मनुश की गिरफ्तारी के बाद तीसरी बड़ी गिरफ्तारी है।

प्रस्तावित राजमार्ग परियोजना के लिए कृषि भूमि के अधिग्रहण पर सवाल रखने वाले वलरमठी को गिरफ्तार किए जाने पर इस मुद्दे पर सलेम में आचाकुट्टा-पट्टी के आसपास के ग्रामीणों के लिए एक बैठक आयोजित  कि गई थी।

खान, जिन्होंने पिछले महीने सेलम का दौरा किया था और चेन्नई-सेलम राजमार्ग परियोजना का विरोध करने वाले लोगों को संबोधित किया था हिंसा को उकसाने के आरोप में रविवार को उन्हे गिरफ्तार कर लिया गया।

परियोजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन आयोजित करने वाले सलेम स्थित पर्यावरणविद्वानों मनुश को सोमवार शाम को हिरासत में ले लिया गया था जबकि उसी रात सलेम में 20 से ज्यादा ग्रामीणों को गिरफ्तार किया गया था।

रविवार को, मत्स्यपालन मंत्री डी जयाकुमार ने कहा कि हर किसी को कानून का पालन करना चाहिए और अगर कोई हिंसा को उत्तेजित करता है तो सरकार को चुप ना रहकर सख्ती से कार्यवाही करनी चाहिए।

निरंतर हिरासत के बाद, राज्यसभा सदस्य कनिमोझी ने मुख्यमंत्री आडप्पादी के ट्वीट को ट्वीट किया। पलानीस्वामी सेलम 8 लेन परियोजना को पूरा करने के लिए काफी उत्सुक है।

वेदांत के स्टेरलाइट उद्योगों के खिलाफ थूथुकुडी में हालिया विरोध हिंसक हो गया और 22 और 23 मई को पुलिस गोलीबारी में 13 लोग मारे गए। पिछले हफ्ते  मक्कल अधिकरम संगठन के छह सदस्यों को राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के तहत आरोपित किया गया था।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक केंद्र सरकार के भारतमाला परियोजना के तहत 10,000 करोड़ रुपये की परियोजना- एक राजमार्ग विकास कार्यक्रम तमिलनाडु में किसानों और पर्यावरणविद्वानों से कड़े विरोध का सामना कर रहा है। तीव्र विरोध प्रदर्शन के बावजूद राज्य सरकार ने सोमवार को मुख्यमंत्री के गृह जिला सलेम में भूमि सर्वेक्षण शुरू किया।

चेन्नई और सेलम के बीच 900 फीट चौड़ा एक्सप्रेस राजमार्ग जिसमें पहले से ही 3 मौजूदा मार्ग हैं 277.3 किमी शामिल होंगे। फीडबैक इन्फ्रा प्राइवेट लिमिटेड द्वारा प्रस्तुत किए गए अनुशंसित परियोजना रिपोर्ट के अनुसार जो भारत के राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को परामर्श सेवाएं प्रदान करता है। प्रस्तावित एक्सप्रेसवे के लिए कुल 2,791 हेक्टेयर जमीन पांच जिलों से अधिग्रहित की जाएगी।

हालांकि  पर्यावरणविद्वानों का अनुमान है कि नुकसान बहुत अधिक हो सकता है राजमार्ग 8 आरक्षित वनों के माध्यम से भी कट जाएगा और इसमें 8 टोल प्लाजा होंगे।छोटे गांवों और कस्बों के लिए पूर्ण पहुंच नियंत्रण कनेक्टिविटी के साथ संभव नहीं है।

 

भानु प्रताप
कृषि जागरण

English Summary: Walram Mathathi, a student activist opposing the central government's project in Tamil Nadu was arrested

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News