1. विविध

आने वाले दिनों में लुप्त हो जाएगी घरेलू गोरैया

पंजाब एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए एक अध्ययन के मुताबिक प्रदूषण अब उद्योग तक सीमित नहीं रहा। यह फसलों को भी प्रभावित कर रहा है। जिसका सीधा असर प्रकृति के दूसरे प्राणियों पर भी दिखने लगा खासकर पक्षी श्रंखला में घरेलु गोरैया के नाम से मसहूर छोटी चिड़ीया इस के दुष्प्रभावों के कारण लुप्त होने कि श्रेणी में पहुंच गई है।

जबकि चिड़ियों में लीड और बोरॉन के स्तर 'विषाक्त' सीमा से ऊपर पाए गए थे, आर्सेनिक, निकल, क्रोमियम, कैडमियम और जस्ता जैसे धातुओं के सामान्य से अधिक थे।

विश्वविद्यालय के वरिष्ठ ऑर्निथोलॉजिस्ट डॉ तेजदीप कौर क्लर के मुताबिक पक्षियों के उत्सर्जन के घटकों के विश्लेषण के बाद ये निष्कर्ष निकाले गए। जो पक्षियों को कोई नुकसान पहुंचाए बिना भारी धातु के निशान का अध्ययन करने का एक प्रभावी तरीका है।

"घरेलु गौरैया के उत्सर्जन में भारी धातुओं की उपस्थिति पक्षियों के कृषि आवास के प्रदूषण को इंगित करती है। और बाद में पक्षी की खाद्य श्रृंखला के प्रदूषण को इंगित करती है और इससे डर बढ़ता है कि न केवल पक्षियों बल्कि भारी धातुओं ने भी मानव खाद्य श्रृंखला में प्रवेश किया हो सकता है।

भारी धातुओं के पक्षियों की आबादी पर हानिकारक प्रभाव पड़ते हैं क्योंकि ये अंगों के कामकाज को प्रभावित करते हैं और इसलिए, पक्षियों की दीर्घायु। धातु प्रजनन अक्षमता, अंडे खोलने की विफलता और पतला ट्रिगर  पुरानी अपरिवर्तनीय परिवर्तन पक्षियों की आबादी में गिरावट के प्राथमिक कारणों में से एक है।

पंजाब में  डॉ क्लर ने कहा  भारी धातुओं वाले उद्योग से इलाज न किए गए प्रदूषण को सिंचाई उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाने वाले नदी के पानी में छोड़ा जा रहा था। "इस तरह ये खेतों तक पहुंच रहे हैं और खाद्य श्रृंखला में प्रवेश कर रहे हैं। बुद्ध नूला के साथ के गांवों में मवेशियों पर इसका दुषप्रभाव देखा जा सकता है।

विश्वविद्यालय के प्राणीशास्त्र विभाग ने पहले के अध्ययन में सामान्य मैना, नीली रॉक कबूतर, गाय बकुला, और घरेलु कौवा में भारी धातुओं के निशान पाये गए थे। अध्ययन के लिए उत्सर्जन लुधियाना जिले के खेतों से एकत्र किया गया था।

 

भानु प्रताप
कृषि जागरण

English Summary: In the coming days, disappearing into domestic goraya

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News