1. ख़बरें

Happy New Year 2021: जानें 1 जनवरी को क्यों मनाया जाता है नया साल, पढ़िए इससे जुड़ी पंरपरा

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Happy New Year 2021

Happy New Year 2021

दुनियाभर में नया साल (Happy New Year) बहुत धूमधाम से मनाया जाता है. सभी लोग 31 दिसंबर की रात 12 बजे से नया साल मनाने लगते हैं, लेकिन क्या आपको नया साल मनाने की वजह पता है. क्या आप जानते हैं कि नया साल मनाने की शुरूआत कब और कहां से हुई. अगर आप नहीं जानते हैं, तो आज हमारे इस लेख को ज़रूर पढ़िए, क्योंकि इसमें आपको नए साल (Happy New Year 2019) से जुड़ी हर जानकारी मिलेगी.  

नए साल की परंपराओं का इतिहास (New Year Traditions History)

माना जाता है कि नए साल के दिन से शुरू किए गए हर काम में सफलता ज़रूर मिलती है. अगर इसके इतिहास की बात करें, तो इसकी शुरुआत सबसे पहले रोमन साम्राज्य में हुई. 742 में रोम का दौरा करने वाले इंग्लैंड के एक मिशनरी सेंट बोनिफेस को ये जानकर हैरानी हुई कि रोम के लोग जनवरी के पहले दिन को कैसे मनाते हैं, क्योंकि वो नए साल पर "गलियों में नाच रहे थे और गीत गा रहे थे. प्राचीन रोम में नया साल 6 दिनों तक मनाया जाता था. इसके बाद से ये पंरपरा इग्लैंड पहुंच गई.

इटली के कुछ शहरों में नए साल (New Year) से पहले की शाम पर अपने पुराने सोफे, कुर्सियां ​​और यहां तक ​​कि रेफ्रिजरेटर को अपनी खिड़कियों से बाहर निकालते हैं. इक्वाडोर में लोग पिछले साल की घटनाओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए पुआल से भरे डमी बनाते हैं. इनको रात में जलाकर अपने बुरे अतीत से छुटकारा पाने की पंरपंरा प्रचलित है. इस तरह धीरे-धीरे नया साल मनाने का प्रचलन शुरू हो गया.

कैसे मनाते हैं नया साल?

नया साल कुछ ही दिनों में आने वाला है. वैसे कई लोग इसके लिए पार्टीज़ और घूमने-फिरने की प्लानिंग करके रखते हैं, लेकिन ध्यान रखें, ये साल बाकी सालों से काफी अलग है. कोरोना महामारी के साथ लोगों की जिंदगी में भी कई उतार-चढ़ाव आए हैं, इसलिए बेशक रौनक थोड़ी फीकी रहने वाली है.

साल 2020 ऐसा गया है कि सभी लोग उम्मीद कर रहे हैं कि उनका आने वाला साल अच्छा बीते. उन्हें नए साल में चुनौतियों और संघर्षों का सामना ना करना पड़े.

English Summary: Why is the new year celebrated on 1 January

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News