News

मेघालय के आदिवासियों ने तैयार किए इतने प्रकार के शहद

जैसे ही आप शहद का नाम सुनते है वैसे ही आपके मुंह में अलग मीठा सा स्वाद आने लग जाता है और आप उसकी के बारे में सोचने लग जाते है. लेकिन जल्द ही आपको खट्टे शहद का भी स्वाद चखने को मिलेगा. दरअसल मेघालय के आदिवासियों ने मीठे से लेकर खट्टे तक के कुल 13 तरह के स्वाद में शहद तैयार किए है. ट्राइफेड में गांधी जी की 150वीं जयंती पर उत्तर पूर्वी राज्यों के कुल 301 नये उत्पादों को लांच किया गया है, जिसमें मेघालय का 13 भिन्न स्वादों में उपलब्ध शहद को भी शामिल किया है.

विदेशों में होगा निर्यात

भारत में शहद का उत्पादन को बहुत होता है लेकिन उसका निर्यात नहीं होता है. क्योंकि यहां के शहद को कई बार अंतर्राष्ट्रीय मानको के अनुकूल नहीं पाया जाता है. बता दें कि ट्राइफेड के एमडी के मुताबिक कि ट्राइफेड अंतर्राष्ट्रीय मानको के मुताबिक शहद की गुणवत्ता बनाएगी और राष्ट्रीय डेवलपमेंट डेयरी गुजरात से उसको प्रमाणित कराकर उसको विदेशों में भी निर्यात करेगा.

honey north east

जल्द उपलब्ध होगी शहद की किस्म

जल्द उपलब्ध होगी 13 तरह के शहद की किस्म जल्द ही दिल्ली और अन्य राज्यों के बाजारों में उपलब्ध हो जाएंगे. इसके अलावा आज लांच किए गए अन्य तरह के उत्पाद भी बाजारों में उपलब्ध होंगे. शहद के शौकीनों के लिए ये दीवाली का बड़ा उपहार ही है. दीवाली के मौके पर इन उत्पादों को उपहार के रूप में दिया जा सकता है. दिवाली के मौके पर इन उत्पादों को उपहार के रूप में दिया जा सकता है.

फसल और कई चीजों को किया शामिल

केंद्र सरकार लुक नार्थ ईस्ट मिशन के तहत उततर पूर्वी राज्यों को बढ़ावा देने के लिहाज से उत्तर पूर्व के द्वारा लांच किए गए 301 उत्पादों में बांस के उत्पाद, फलों, खाद्य पदार्थों और हस्तकला की चीजें शामिल शामिल है. इनमें वहां के किसानों द्वारा पैदा की जा रही खास किस्म की फसलों और चीजों को भी ट्राइफेड ने शामिल किया है. ट्राइफेड नार्थ इस्ट फार्म सेल्स प्रमोशन के साथ जुड़ा है जो कि वहां के किसानों की खास पैदावारों जैसे की काला चावल जो कि कैंसर से लड़ने की विशिष्ट क्षमता रखती है.



English Summary: Tribals are making different types of honey, know the whole news

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in