News

लापरवाही या फिर शरारत लेकिन जहरीले खाने कि घटना के दो दिन बाद हुई तीन बच्चों कि मौत

लापरवाही या शरारत लेकिन जहरीले खाने कि घटना के दो दिन बाद तीन बच्चों की मौत हो गई। एसा माना जा रहा है कि जिन कपड़ों में कीटनाशक का निशान था  खोपोली के पास महाद गांव में सुभाष माने के निवास में मेहमानों के लिए पकाए गए भोजन को कवर करने के लिए उसी कपड़े का इस्तेमाल किया गया था।

रायगढ़ जिला सिविल सर्जन डॉ अजित के अनुसार कुछ मरीजों ने उन्हें बताया कि भोजन को कवर करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले कपड़े में कीटनाशक की गंध थी। "दो रोगियों की सीरम परीक्षण रिपोर्ट ने भोजन में ऑर्गनोफॉस्फेट यौगिक की उपस्थिति का संकेत दिया। कोलिनेस्टेस एंजाइम स्तर 800 के आसपास पाया गया था  जो आदर्श रूप से लगभग 1,200 होना चाहिए। यह कीटनाशकों और कीटनाशकों में पाए गए ऑर्गनोफॉस्फेट यौगिक की उपस्थिति की पुष्टि करता है।

लेकिन इसी बीच  एफडीए के सहायक आयुक्त दिलीप के अनुसार यदि पके हुए भोजन में पाया जाने वाला एक रासायनिक यौगिक है। तो यह खाद्य विषाक्तता या रासायनिक विषाक्तता की मात्रा नहीं है। "यदि अनाज खराब गुणवत्ता वाले थे तो उन सभी जिन्होंने उन्हें खरीदा  उसका प्रभाव उन पर भी जरुर पड़ा होगा। हमने कच्चे माल के आठ नमूने और पके हुए भोजन के सात नमूने ले लिए हैं अब बस रिपोर्ट का इंतजार है। "

विभिन्न अटकलों के बीच सच क्या है इस की पुष्टि करने के लिए पुलिस रिपोर्ट की प्रतीक्षा कर रही है। "ग्रामीणों के बीच स्वच्छता पर जागरूकता की कमी है। ऐसी संभावना है कि किसी ने कीटनाशक या कीटनाशक को छूने के बाद एक तौलिया पर अपना हाथ साफ कर दिया हो और फिर किसी व्यक्ति ने भोजन को कवर करने के लिए उसी तौलिये का उपयोग किया हो। खलपुर पुलिस ने श्री माने के खिलाफ चार लोगों से पूछताछ की है। हालांकि पुलिस का यह भी कहना कि शायद किसी ने आपसी मतभेद के चलते उनके साथ यह शरारत कि हो बरहाल सच्च क्या है यह तो आने वाली रिपोर्ट से ही पता चल पाएगा।

 

भानु प्रताप
कृषि जागरण



Share your comments