1. ख़बरें

धान की जगह बाजरे की खेती पर जोर दे रहा नीति आयोग, जानिए क्यों?

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
milti

देश के अधिकतर किसान धान की खेती को प्रमुखता देते हैं, लेकिन नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत का कहना है कि किसानों को ऐसी फसलों का चुनाव करना चाहिए, जिनमें पानी की खपत कम हो ऐसे में किसानों को धान की जगह बाजरे की खेती की ओर बढ़ाना चाहिए. उनका मानना है कि बाजरे में कई पोषक तत्वों और सूक्ष्म पोषक तत्वों पाए जाते हैं. इसमें प्रोटीन और कैल्शियम की भी प्रचुर मात्रा होती है, इसलिए इसका महिलाओं और बच्चों के लिए सुरक्षा कवच योजनाओं में इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

amitabh

नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने एक ट्वीट में कहा है कि बाजरा के प्रचार के विषय में राज्यों के साथ सकारात्मक बातचीत की गई है. इसमें प्रोटीन और कैल्शियम के अलावा सूक्ष्म पोषक तत्वों भी पाए जाते हैं. बता दें कि वह नेशनल कंसल्टेशन ऑन प्रमोशन ऑफ मिलेट्स पर हुई वर्चुअल बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे. इस बैठक में राज्यों के प्रतिनिधियों ने अपने अनुभव साझा किया है, साथ ही देश में पोषण सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए योजनाओं पर चर्चा की है.

ये खबर भी पढ़े: खुशखबरी: बीज बैंक के मालिक बनेंगे किसान, जानें लाइसेंस लेने की आसान शर्तें

milet

खरीफ सीजन में बाजरे की खेती की जाती है. इसको मोटे दाने वाली फसलों की श्रेणी में रखा जाता है. हमारे देश में इसकी खेती राजस्थान, महाराष्ट्र और गुजरात समेत कई राज्यों में की जाती है. इसकी खेती में किसानों को कम मेहनत करनी पड़ती है, साथ ही लागत भी कम आती है. इस तरह किसानों को अच्छी बचत हो सकती है.

बता दें कि इसकी खेती शुष्क प्रदेशों में ज्यादा होती है. खास बात है कि इस फसल की बुवाई में ज्यादा पानी की जरूरत नहीं पड़ती है, क्योंकि यह फसल वर्षा पर ज्यादा निर्भर होती है. इसकी खेती उस जगह भी आसानी से की जा सकती है, जहाँ मिट्टी में अम्लीय गुण ज्यादा पाए जाते हैं. बाजरे की खेती के लिए रेतीली बलुई मिट्टी सबसे उपयुक्त मानी जाती है. लेकिन आज बाजरे की खेती लगभग सभी तरह की मिटटी में की जा रही हैं.

ये खबर भी पढ़े: खुशखबरी: किसान 90 प्रतिशत सब्सिडी के साथ लगवाएं स्प्रिंकलर सेट, जानें योजना की शर्तें और आवदेन प्रक्रिया

English Summary: The policy commission is promoting the cultivation of millet instead of paddy

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News