आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. ख़बरें

अगर आपने भी ली है 2000 रुपए की किस्त, तो जेल जाने को रहिए तैयार!

PM Kisan Samman Nidhi Scheme

अनुचित तरीके से प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना (PM Kisan Samman Nidhi Scheme) का लाभ लेने वाले किसानों के लिए बुरी खबर है. दरअसल अब सरकार उन सभी किसानों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी कर रही है, जो अनुचित तरीके से PM Kisan योजना का लाभ ले रहे थे.  खबरों के मुताबिक, उनको जेल भी जाना पड़ सकता है.

दरअसल सरकार उन लोगों के खिलाफ अब सख्त हो गई है जो इस PM Kisan Samman Nidhi Scheme का लाभ अनुचित तरीके से उठा रहे है.

ऐसे लोगों जल्द ही पकड़े जाएंगे, क्योंकि उनका नाम आधार कार्ड से जुडा है औऱ आधार को पैन कार्ड से जोड़ा गया है. इस संबंध में झारखंड के कई जिलों में इस तरह के लोगों की सरकार के द्वारा पहचान की जा चुकी है जो अपात्र होते हुए भी इस योजना का अनुचित तरीके से लाभ ले रहे है.

प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना (PM Kisan Samman Nidhi Scheme)


पीएम किसान सम्मान निधि से छोटे किसान को सालाना 6 हजार रुपये की राशि मिलती है. पीएम किसान योजना में यह प्रावधान है कि यदि कोई किसान पहली बार योजना में अपना रजिस्टर कराता है, तो उसे दो किस्त की राशि एक साथ दी जाती है. इस योजना में एक किसान को एक साल में 2-2 हजार रुपये के हिसाब से 6 हजार रुपये दिए जाते हैं.

कैसे जानें PM Kisan Scheme में देरी की वजह

देरी की वजह जानने के लिये या तो आप अपना ऑनलाइन स्टेट्स जांच सकते हैं. या फिर सीधे टोल फ्री नंबर पर बात कर सकते हैं. अगर हेल्प लाइन या ईमेल के जरिये जानकारी चाहते हैं तो इन नंबर और आईडी की मदद ले सकते हैं.

  • पीएम किसान टोल फ्री नंबर: 18001155266

  • पीएम किसान हेल्पलाइन नंबर:155261

  • पीएम किसान लैंडलाइन नंबर्स: 011—23381092, 23382401

  • पीएम किसान की नई हेल्पलाइन: 011-24300606

  • पीएम किसान की एक और हेल्पलाइन है: 0120-6025109

  • ई-मेल आईडी: pmkisan-ict@gov.in

English Summary: PM Kisan Samman Nidhi Scheme rule and status

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News