जानिए किस प्रदेश में भारी बारिश के कारण हुआ विकास परियोजना का कर्य ठप

लगातार भारी बारिश के कारण गोदावरी नदी में भारी प्रवाह  उभर रहा है। पिछले दो दिनों में भारी बारिश के चलते कलेश्वर में  परियोजनाओं को बाधित कर दिया है,।मेडिगड्डा और सुन्दिला में काम फिल्हाल के लिए रोक दिया गया है।

परियोजना स्थल पर कंक्रीट काम प्रगति पर है, जबकि जमीनी खुदाई कार्य बंद कर दिए गए हैं। प्रोजेक्ट साइट बारिश से मुक्त होने के बाद ही काम शुरू हो जाएंगे। सुंदिला में पुल का काम चल रहा है, लेकिन जब तक नदी का पानी एक निशचित स्तर तक नहीं पहुंचता तब तक द्वार नहीं बनाए जाएंगे।

जमीनी कार्यों में इस्तेमाल की जाने वाली ब्लैक कपास मिट्टी को फिर से शुरू करने के लिए सूखना पड़ता है। अधिकारियों के मुताबिक, काम कुछ दिनों के बाद ही शुरू किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जमीनी कार्यों में रुकावट सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने में देरी नहीं होगी क्योंकि काम दोहरी बदलावों में किया जाएगा।

आधिकारिक रिपोर्टों के मुताबिक, श्रीपाद येलंपल्ली परियोजना को पानी के रूप में 30,650 क्यूसेक पानी मिला और सोमवार की शाम तक 6,050 से ज्यादा क्यूसेक छोड़ा गया। परियोजना में जल स्तर 485 एफआरएल (पूर्ण रिजर्वोइयर स्तर) की कुल क्षमता से 464 फीट तक पहुंच गया

परियोजना को केमेड परियोजना से भारी प्रवाह प्राप्त हो रहा है। श्रीरामसगर की एक और प्रमुख परियोजना में, पानी के स्तर 1,000 फीट के लगातार प्रवाह के साथ 1,058 फीट तक पहुंच गए।

परियोजना की क्षमता 1,0 9 1 एफआरएल है। गोदावरी के पकड़ क्षेत्रों में भारी बारिश और ऊपरी रिपेरियन राज्य, महाराष्ट्र से भारी प्रवाह इस मानसून के मौसम में जलाशयों को भर रहा है।

यदि नदी को लगातार तीन दिनों तक अच्छी बारिश के साथ अच्छा प्रवाह मिलता है, तो चालू खरीफ और रबी मौसमों में सिंचाई के उद्देश्य के लिए पानी की आवश्यकता की पूर्ति होगी साथ ही करीमनगर और वारंगल जिलों में उपलब्ध पानी के साथ पेयजल की जरूरतों की पूर्ति में सहायता प्राप्त होगी।

 

भानु प्रताप

कृषि जागरण

Comments