1. ख़बरें

डीजीपी पद से हटाए गए झारखंड के IPS एमवी राव ने छोड़ी नौकरी, अब गांव जाकर करेंगे खेती

श्याम दांगी
श्याम दांगी

एमवी राव ने नौकरी छोड़ने के बाद खेती करने का फैसला लिया

देश के तेज-तर्रार आईपीएस अफसरों में गिने जाने वाले एमवी राव अब गांव जाकर खेती करेंगे. हाल ही में झारखंड के डीजीपी पद से हटाने के बाद उन्होंने नौकरी छोड़कर वीआरएस लेने का फैसला करके सबको चौंका दिया. अब वे आईपीएस की चकाचौंध वाली नौकरी छोड़कर अपने पुश्तैनी गांव जाकर खेतीबाड़ी करेंगे.

विजयवाड़ा में है जमीन

राव झारखंड के प्रभारी डीजीपी थे और वे 11 महीने तक प्रदेश के पुलिस मुखिया रहे. लेकिन 11 फरवरी को उन्हें अचानक डीजीपी पद से हटा दिया गया था. वहीं उनकी जगह नीरज सिन्हा को रातोंरात प्रदेश का नया डीजीपी बना दिया गया था. जिसके बाद उन्होंने फैसला किया कि अब नौकरी नहीं करेंगे. ख़बरों के मुताबिक, राव अब आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में अपने पुश्तैनी घर जाकर यहीं खेती बाड़ी का काम संभालेंगे. 

राज्य सरकार के फैसले से आहत

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, रातों रात डीजीपी पद से हटाए जाने के कारण राव राज्य सरकार के इस फैसले से बेहद आहत हुए. यही वजह हैं कि उन्होंने नौकरी छोड़ने का फैसला किया. हालांकि राव की 6 महीने की नौकरी बची थी लेकिन उसके पहले ही उन्होंने नौकरी छोड़ने का फैसला कर लिया. बता दें कि राव एकीकृत बिहार के जहानाबाद में एएसपी पद पर रहने के साथ ही झारखंड के डीजीपी पद तक कार्यरत रह चुके हैं. 

लालू सरकार में भी पद पर रहे

गौरतलब हैं कि एमवी राव 34 सालों तक नौकरी में रहे. इस दौरान उन्होंने बिहार में जगरनाथ, भागवत झा आजाद और लालू प्रसाद यादव और बाद में झारखंड के हेमंत सोरेन सरकार में कई बड़े पदों पर रह चुके हैं. वहीं अचानक रातोंरात पद से हटाए जाने के बाद उन्होंने मीडिया में अपनी कोई प्रतिक्रिया ज़ाहिर नहीं की लेकिन अचानक नौकरी छोड़ने का उनका यह फैसला काफी कुछ कहता है. 

English Summary: IPS MV Rao of Jharkhand, who was removed from the post of DGP, left the job, now he will go to the village and do farming

Like this article?

Hey! I am श्याम दांगी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News