News

महंगाई दर के आंकड़े जारी

सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय के केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने  जुलाई, 2017 के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) पर आधारित महंगाई दर के आंकड़े जारी किए। इस दौरान ग्रामीण क्षेत्रों के लिए सीपीआई आधारित महंगाई दर 2.41 फीसदी (अनंतिम) रही, जो जुलाई, 2016 में 6.66 फीसदी थी। इसी तरह शहरी क्षेत्रों के लिए सीपीआई आधारित महंगाई दर जुलाई, 2017 में 2.17 फीसदी (अनंतिम) आंकी गयी, जो जुलाई 2016 में 5.39 फीसदी थी। ये दरें जून, 2017 में क्रमशः 1.52 तथा 1.41 फीसदी (अंतिम) थीं।


केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय ने जुलाई, 2017 के लिए उपभोक्ता खाद्य मूल्य सूचकांक (सीएफपीआई) पर आधारित महंगाई दर के आंकड़े भी जारी किए। इस दौरान ग्रामीण क्षेत्रों के लिए सीएफपीआई आधारित महंगाई दर 0.07 फीसदी (अनंतिम) रही, जो जुलाई, 2016 में 8.18 फीसदी थी। इसी तरह शहरी क्षेत्रों के लिए सीएफपीआई आधारित महंगाई दर जुलाई, 2017 में -0.99 फीसदी (अनंतिम) आंकी गई, जो जुलाई, 2016 में 8.80 फीसदी थी। ये दरें जून, 2017 में क्रमशः -1.62 तथा -3.16 फीसदी (अंतिम) थीं।

अगर शहरी एवं ग्रामीण दोनों ही क्षेत्रों पर समग्र रूप से गौर करें तो उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) पर आधारित महंगाई दर जुलाई, 2017 में 2.36 फीसदी (अनंतिम) आंकी गई है, जो जुलाई, 2016 में 6.07 फीसदी (अंतिम) थी। वहीं, सीपीआई पर आधारित महंगाई दर जून, 2017 में 1.46 फीसदी (अंतिम) थी। इसी तरह यदि शहरी एवं ग्रामीण दोनों ही क्षेत्रों पर समग्र रूप से गौर करें तो उपभोक्ता खाद्य मूल्य सूचकांक (सीएफपीआई) पर आधारित महंगाई दर जुलाई, 2017 में -0.29 फीसदी (अनंतिम) रही है, जो जुलाई, 2016 में 8.35 फीसदी (अंतिम) थी। वहीं, सीएफपीआई पर आधारित महंगाई दर जून, 2017 में -2.12 फीसदी (अंतिम) थी। 

सांख्‍यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्‍वयन मंत्रालय के केन्‍द्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने उपभोक्‍ता मूल्‍य सूचकांक (सीपीआई) के लिए आधार वर्ष को 2010=100 से संशोधित करके 2012=100 कर दिया है।



English Summary: Inflation rate continues

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in