पोर्टल में लेटलतीफी से रबी फसलों का बीमा अधर में

कृषि मंत्रालय की लापरवाही के चलते प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करना आसान नहीं होगा रबी सीजन की फसलों की बुआई अपने अंतिम चरण में हैं! लेकिन फसल बीमा कराने की तैयारियां अधूरी हैं! जिस बीमा पोर्टल पर किसानो को अपनी फसल का ऑनलाइन बीमा करना है! इससे किसानों की परेशानी बढ़ गयी है! कई राज्यों ने केंद्र सरकार से बीमा कराने की अंतिम तिथि बढ़ाने की मांग की है!

चालू रबी सीजन में 40 फीसद बुआई रकबा फसल बीमा के दायरे में लाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है! लेकिन मंत्रालय की लेटलतीफी के चलते इसके पूरा होने की उम्मीद नहीं के बराबर है! रबी फसल का बुआई सीजन एक अक्टूबर से चल रहा है! ज्यादातर बुआई का काम जनवरी के दूसरे सप्ताह तक पूरा होने की सम्भावना है! प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में कृषि मंत्रालय ने पोर्टल पर ही बीमा कराने का प्रावधान किया है! फसल बीमा योजना के तहत बैंक से क़र्ज़ लेने वाले और ना लेने वाले दोनों तरह के किसानों के लिए बीमा कराने की अंतिम तिथि 31 दिसंबर 2017 तय की गयी है! उधर कृषि मंत्रालय के अफसरों ने तेजी दिखाने के अंदाज़ में हालांकि बहुत विलम्ब के साथ 18 दिसंबर को फसल बीमा पोर्टल चालू किया है लेकिन इस पर बैंक के न क़र्ज़ लेने वाले किसान ही बीमा करवा सकते  है! उनके लिए भी बीमा कराने की अंतिम तारीख 31 दिसंबर है उन्हें बैंक शाखाओं कॉमन  सर्विस सेंटर और बीमा अजेंटों के मार्फ़त फसल बीमा पोर्टल पर ऑनलाइन बीमा कराना है! वही बैंक से कृषि ऋण लेने वाले किसानों के बीमा कराने को फिलहाल कोई प्रावधान नहीं है! यह हालत 22 दिसंबर 2017 तक थी! इससे हैरान उप्र के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने एक पत्र लिख केंद्रीय कृषि मंत्रालय के रवैये पर नाराज़गी जाहिर की है! उन्होंने अंतिम तिथि एक माह और बढ़ाने की मांग की है! शाही ने इस आशय का पत्र कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह को लिखा है! बीमा पोर्टल चालू होने में लेटलतीफी होने का खामियाजा किसानों को उठाना पड़ रहा है!

Comments