MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

मंडी में फसल की तुलाई का रेट बढ़ा, किसान हुए परेशान

इटारसी मंडी में हमालों ने अपनी मजदूरी के रेट बढ़ाने को लेकर हड़ताल की, जिसके चलते दूर से आये किसानों को फसल बेचने के लिए काफी लम्बा समय तक इंतज़ार करना पड़ा है साथ ही कई परेशानियों का सामना करना पड़ा है.

स्वाति राव
एग्रीकल्चर  न्यूज
एग्रीकल्चर न्यूज

मध्य प्रदेश के बाबई, बांद्राभान से लेकर नर्मदापुरम के किसानों को मंडी में फसल को बेचने पर कई परेशानियों का सामना करना पड़ा है. दरअसल, होशंगाबाद जिले के इटारसी की मंडी में फसल की कीमत अच्छी होने पर नर्मदापुरम सहित कई क्षेत्र के किसान अपनी फसल को यहाँ बेचने आ गए, लेकिन इस दौरान मंडी में मजदूर द्वारा की गई हड़ताल की वजह से दूर से आये किसानों को करीब 4 घंटे तक परेशानियाँ का सामना करना पड़ा है.

बताया जाता है कि होशंगाबाद जिले के इटारसी क्षेत्र की मंडी में फसल की कीमत अच्छी होने के कारण यहाँ कई राज्यों के व्यापारी फसल बेचने आ रहे थे, लेकिन इस बीच हमालों (मजूदरों) ने मंडी में कृषि उपज के रेट को बढ़ाने की मांग को लेकर हड़ताल कर दी थी. इस दौरान किसानों को काफी परेशान होना पड़ा है.

वहीं, राज्य के एसडीएम और भारसाधक अधिकारी एमएस रघुवंशी को हड़ताल की जानकरी मिलते ही व्यापारी और हमालों की संयुक्त बैठक की. जिसमें उन्होंने उपज के रेट बढ़ाने पर अपनी सहमति जताई है.

क्या है पूरा मामला (What Is The Whole Matter)

दरअसल, कोरोना के चलते हमालों को मंडी में अच्छे भाव ने मिलने की वजह से आर्थिक तंगी से काफी परेशान होना पड़ रहा था. ऐसे में उन्होंने अपनी मजदूरी के रेट बढ़ाने को लेकर मांग की थी. जिसमें उन्होंने मांग पूरी न होने तक हड़ताल करने का निर्णय लिया था.

इसे पढ़ें - खेती हड़ताल का मास्टर स्ट्रोक के साथ किसान करेंगे राजनीतिक दलों का बहिष्कार

कृषि उपज बिक्री देर रात तक चली (Agricultural Produce Sale Lasted Till Late Night)

इटारसी की कृषि उपज मंडी में किसानों को गेहूं खरीदी का उचित भाव मिल रहा है. इस वजह से इटारसी के निजी व्यापारी के साथ – साथ बाबई, बांद्रभान से भी व्यापारी अपनी फसल को बेचने के लिए आ रहे हैं. मिली सूचना के अनुसार, अब तक गेहूं की 25 हजार बोरी की बिक्री हो चुकी है.

वहीँ सभी व्यापारियों का कहना है कि हड़ताल की वजह से हमे काफी देर तक परेशान जरुर होना पड़ा लेकिन उपज के ऊँचे दाम होंबे की वजह से हमें अपनी उपजा के दाम काफी अच्छे प्राप्त हुए इससे हमें काफी ख़ुशी है. 

English Summary: In Itarsi Mandi, the workers went on strike to increase the rate of their wages. Published on: 19 April 2022, 04:22 PM IST

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News