1. ख़बरें

Best Agri-Startup से आप जीत सकते हैं 50 लाख रुपए, जानिए कैसे?

IIT कानपुर का निर्माण (NIRMAN) कार्यक्रम स्वास्थ्य सेवा और कृषि डोमेन में लगे विनिर्माण स्टार्टअप पर ध्यान केंद्रित करेगा. इस कार्यक्रम में विजेता स्टार्टअप को 10 लाख रुपए की नकद राशि इनाम के तौर पर दी जाएगी….

निशा थापा

आईआईटी कानपुर ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (SIIC), आईआईटी कानपुर में प्रौद्योगिकी व्यवसाय इनक्यूबेटर, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार द्वारा समर्थित निर्माण त्वरक कार्यक्रम शुरू कर रहा है.

विजेता स्टार्टअप को मिलेगा 10 लाख रुपए का पुरस्कार

इस कार्यक्रम के तहत कुल 15 स्टार्टअप का चयन किया जाएगा. उन्हें प्रयोगशाला से बाजार तक अपने उत्पाद की यात्रा को तेज करने का अवसर दिया जाएगा. 15 स्टार्टअप के समूह में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले स्टार्टअप को 10 लाख रुपए तक नकद पुरस्कार मिलेगा.

इस कार्यक्रम के शुभारंभ पर कृषि जागरण से बातचीत करते हुए, प्रोफेसर अमिताभ बंद्योपाध्याय, प्रोफेसर-इन-चार्ज, इनोवेशन एंड इनक्यूबेशन, आईआईटी कानपुर ने कहा, “हमारा देश विनिर्माण के क्षेत्र में जबरदस्त चुनौतियों का सामना कर रहा है. हमें भारत में विनिर्माण की स्थिति को ऊपर उठाने के लिए कुछ उचित विकासात्मक चुनौतियों को पूरा करने के लिए स्वास्थ्य देखभाल और कृषि क्षेत्र में काम करने वाले इनोवेटर्स और स्टार्टअप की तत्काल आवश्यकता है.”

उन्होंने कहा कि “मेरा मानना ​​है कि निर्माण (NIRMAN) गतिवर्धक कार्यक्रम क्षेत्र में काम कर रहे स्टार्टअप्स का दोहन करने और उन्हें भुनाने की व्यापक क्षमता के साथ आता है. हम इनोवेटर्स और स्टार्टअप्स का आवेदन करने के लिए स्वागत करते हैं."

पुरस्कार चयन मानदंड के बारे में पूछे जाने पर, उन्होंने कहा कि “सब कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस तरह के विनिर्माण स्टार्टअप हैं और आपको कितनी सहायता की आवश्यकता है. चयन करते समय आपके अभिनव विचार की व्यवहार्यता के साथ-साथ सेवा की गुणवत्ता को भी ध्यान में रखा जाएगा. चयनित स्टार्टअप को कार्यक्रम पूरा होने के बाद 50 लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता भी मिलेगी.”

फाउंडेशन फॉर इनोवेशन एंड रिसर्च इन साइंस एंड टेक्नोलॉजी (FIRST- IITK) और AIIDE के सीईओ, निखिल अग्रवाल ने कहा, “SIIC को होनहार इनोवेटर्स और स्टार्टअप्स के साथ काम करने का एक विशाल अनुभव है जो सर्वोत्तम सामाजिक प्रभाव का लाभ उठा सकते हैं. विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के साथ इस सहयोग का उद्देश्य देश में विनिर्माण क्षेत्र को पुनर्जीवित करना है. मुझे यकीन है कि यह कार्यक्रम सास (SaaS), एआई/एमएल के समान जुनून और उत्साह के साथ निर्माण को आगे बढ़ाने के लिए इनोवेटर्स के बीच प्रेरणा को प्रेरित करेगा. मैं अधिक स्टार्टअप्स से आवेदन करने का आग्रह करता हूं."

यह भी पढ़ें : Electric Carts: कुछ ही सालों में देश में हर तीसरी गाड़ी होगी इलेक्ट्रिक, पढ़ें पूरी खबर

6 महीने के लंबे कार्यक्रम को चार भागों में तैयार किया जाएगा- उत्पाद विकास के सिद्धांत (principles of product growth), इंजीनियरिंग त्वरण (engineering acceleration), अनुपालन पहेली को नेविगेट करना और अगले चरण के विकास की ओर ले जाना. यह प्रोग्राम नॉलेज वर्कशॉप, वन-ऑन-वन मेंटरिंग सपोर्ट, क्लिनिकल वैलिडेशन के लिए कस्टमाइज्ड सपोर्ट के लिए डीप डाइविंग और बिजनेस, इनवेस्टर कनेक्ट की पेशकश करेगा. कार्यक्रम के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और यह 5 अगस्त तक चलेगी.

English Summary: IIT Kanpur is offering best agri-startups a chance to win Rs 50 lakh Published on: 26 July 2022, 06:08 IST

Like this article?

Hey! I am निशा थापा . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News