News

किसानों की भलाई हेतु इफको किसान और कृषि जागरण की प्रतिबद्धता

किसानों के स्वाभिमान और उनको मुख्यधारा में जोड़ने के लिए आज कृषि जागरण और इफको किसान ने एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये हैं. यह समझौता ज्ञापन पांच साल के लिए है.इफको किसान के चीफ मार्किटिंग ओफिसर श्री नवीन चौधरी ने बताया, इफको किसान का मुख्य उद्देश ग्रामीणों को समय पर कार्यवाई हेतु उचित जानकारी प्रदान कर टिकाऊ व व्यवहार्य तरीकों से सशक्त बनाना है. इफको किसान, किसानो को एयरटेल के साथ मिलकर ग्रीन सिम प्रदान करता है, इस सिम पर इफको किसान, किसान भाइयों को वाणी संदेश, सहायता केंद्र, फोन इन कार्यक्रम, जागरूक किसान प्रतियोगिता आदि सुविधाएं प्रदान करता है. अब तक 25 हजार से ज्यादा डिस्ट्रिब्यूटर और रिटेलर के साथ मिल कर इस दिशा में काम किया जा रहा है. इसके लिए देश के 18 राज्यों में स्थानीय कार्यालय बनाए गए हैं. देश के कुल 104 क्लाइमेट जॉन के मुताबिक कृषि विशेषज्ञ जानकरियां प्रदान करते हैं. अभी तक 42 लाख सिम उपभोक्ता इस सुविधा का लाभ उठा रहे हैं .

इफको किसान के 500 से अधिक मार्केटिंग एसोसिएट एवं टेरीटरी मैंनेजर ग्राउंड एक्टिविटी, ग्रीन सिम एवं प्रतिदिन क्रियाओं के लिये कार्यरत है. ग्रामीण आबादी तक टेकक्नोलोजी सही समय पर पहुंचाने के लिए 2014 में इफको किसान एग्रीकल्चर एप्लिकेशन की शुरुआत की जिसे निशुल्क उप्लब्ध कराया गया. अब तक 6 लाख से ज्यादा किसान इस एप से जुड़ चुके हैं. इफको किसान ने किसानों के लिए ऋण सेवा की व्यवस्था किसान रूरल फाइनेंस लिमिटेड के तहत की है. किसानों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए कृषि जागरण पत्रिका के द्वारा किसानों को नई-नई तकनीक की जानकारी पहुंचाते हैं. केंद्र सरकार द्वारा चलाये जा रहे किसान कॉल सेंटर जो की 23 राज्यों में उपलब्ध हैं उसे इफको किसान ही संचालित कर रहा है. किसानों को फसल का सही दाम दिलाने के लिए फार्मर प्रोडुसर्स एसोसिशन एवं कमोडिटी क्षेत्र कैसे  साथ संगठित होकर कार्य कर रहे हैं ताकि किसान की फसल सीधे बाजार तक पहुँच सके और किसानो की आय बढ़ायी जा सके.

वहीं कृषि जागरण आज 12 भाषाओं , 23 एडिशन्स, 22 राज्यों और 24 साल के अनुभव के साथ सक्रिय है. इफको किसान और कृषि जागरण किसानों को नए भारत की तस्वीर दिखा रहे हैं और कृषि क्षेत्र में हो रहे नए शोध और अनुसंधानों के बारे में  बताकर किसान को जागरुक बना रहे हैं. कृषि जागरण बहुत सरल और सटीक भाषा में किसान तक जानकारी पहंचाने में सक्षम है. सरकार द्वारा किसानों को दी जा रही योजनाओं को सरल ढ़ंग से उन तक पहुंचाना व किसान को उनसे कैसे लाभ मिले, इन सभी जानकारियों को अच्छी तरह से किसानों को बताना, यह इन दोनों संस्थाओं का प्रमुख उद्देश्य है और यह इस समझौता ज्ञापन दवारा संभव हो सकेगा.

समझौता ज्ञापन पर इफको किसान के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री एस. के. मल्होत्रा और कृषि जागरण के मुख्य संपादक श्री एम.सी.डोमनिक ने इफको किसान के चीफ मार्किटिंग ओफिसर श्री नवीन चौधरी, , इफको किसान  एवं कृषि जागरण के अधिकारियों की मौजूदगी में हस्ताक्षर किये गये.

इस समझौता ज्ञापन हस्ताक्षर का सीधा प्रसारण कृषि जागरण फेसबुक पर भी किया गया.

इस अवसर पर श्री मल्होत्रा ने ख़ुशी जताते हुए कहा कि इससे किसानों और उनसे जुड़े कईं कॉर्पोरेट घरानों को लाभ मिलेगा. श्री डोमिनिक ने भी अपनी सहमति दर्शाते हुए कहा कि दोनों संस्थाएं अब किसानों की समस्यायों को सुलझाने में प्रतिबद्ध हैं और किसानो को जल्द ही बेहतर दिनों का आभास हो सकेगा, ऐसी आशा है.



Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in