MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

ICAR का 94वां स्थापना दिवस और पुरस्कार समारोह बना किसानों के लिए संकल्प का दिन

आज ICAR का 94वां स्थापना दिवस और पुरस्कार समारोह दिवस के शुभ मौके पर केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कई किसानों व वैज्ञानिकों को सम्मानित किया...

लोकेश निरवाल
ICAR का 94वां स्थापना दिवस और पुरस्कार समारोह
ICAR का 94वां स्थापना दिवस और पुरस्कार समारोह

आज 16 जुलाई, 2022 को आईसीएआर का 94वां स्थापना दिवस और पुरस्कार समारोह का आयोजन किया गया. यह कार्यक्रम ए.पी शिंदे संगोष्ठी हॉल, एनएएससी, पूसा, नई दिल्ली में आयोजित किया गया है. 

आपको बता दें कि नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री, पुरुषोत्तम रुपाला, केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री, कैलाश चौधरी, डीजी आईसीएआर, डॉ त्रिलोचन महापात्र के साथ आईसीएआर 94 वें स्थापना दिवस और पुरस्कार समारोह 2022 का सेरेमोनियल दीप प्रज्ज्वलित का उद्घाटन किया गया. 

डॉ त्रिलोचन महापात्र ने किसानों का प्रोत्साहित बढ़ाया

कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए सर्वप्रथम डॉ त्रिलोचन महापात्र  ने कहा कि हम 1 से 2 अक्टूबर के बीच टोल फ्री नंबर को जारी करेंगे. इस नंबर की मदद से किसानों की कई तरह से मदद की जाएगी. इसके अलावा उन्होंने कहा कि हमने नेशनल कैंपिंग भी की है, जिसे देश के 7 से 8 लाख से अधिक किसानों तक पहुंचाया है. इसके अलावा हम कई तरह की योजनाओं पर भी काम कर रहे हैं, ताकि किसानों को लाभ पहुंच सके और फसल में लगने वालो रोगों की रोकथाम में अधिक काम कर सकें. ये ही नहीं रंगीन मछली, मशीनीकरण, Food and Agro के लिए भी कई तरह के कदम उठाए गए हैं और आगे भी कई कदम उठाएंगे. इसी के साथ डॉ त्रिलोचन महापात्रा ने सिंगल यूज प्लास्टिक के बारे में भी लोगों को जागरूक किया. इसी क्रम में ICAR ने कई महत्वपूर्ण कार्य किए हैं और आगे भी यह किसानों की मदद करता रहेगा.

मंत्री कैलाश चौधरी ने समारोह में कहा

ICAR को बधाई देते हुए मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के पीछे ICAR का बहुत बड़ा योगदान रहा है. कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने यह भी कहा कि देश किसानों के लिए एक लक्ष्य को लेकर आगे बढ़ रहा है, जिसमें किसानों की आय, नई तकनीक, आर्थिक सहायता, फसल बीमा हर एक चीज को ध्यान में रखा जाएगा. इसके अलावा उन्होंने कहा कि सरकार 10 हजार FPO का निर्माण करेगा, जिससे किसान अपने उत्पाद को देश के किसी भी कोने में सरलता से बेच सकते हैं.

मंत्री कैलाश ने कहा कि ICAR के 94वें स्थापना दिवस मनाया जा रहा है और 100 साल पूरे होने में 6 साल बाकी है. इसी क्रम में 6 साल में हम सब कुछ नए लक्ष्य को हासिल करेंगे, जिससे देश के कई किसानों को लाभ पहुंचेगा.

कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए मत्स्य एवं पशु मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला ने कहा कि किसान अपनी परेशानी का हल निकालने के लिए जिस तकनीकी को बना रहे हैं सरकार को उनकी मदद करनी चाहिए ना कि उनके काम में टांग आड़ानी चाहिए.  इस समारोह में रूपाला ने कहा कि मल और मूत्र किसी का पवित्र नहीं होता है, लेकिन इस पूरी दुनिया में गाय का मल-मूत्र पवित्र है, इसलिए हमें उन्हें भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. किसानों को लेकर रुपाला ने कहा कि देश के कृषि विज्ञान केंद्र ने किसानों को Soli Health Card दिया है. इसके अलावा उन्होंने कहा कि आज के समय में हमें कई अंतरराष्ट्रीय मान्यताएं प्राप्त हो चुकी हैं.

ICAR के स्थापना दिवस को संकल्प दिवस बनाए:  तोमर

ICAR के स्थापना दिवस के कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि जन्म दिवस को लेकर हर किसी में एक उत्साह का माहौल होता है. इसी क्रम में ICAR में भी एक उत्साह का माहौल है. आज प्रमुख रुप से ICAR ने पीएम मोदी के आवाहन पर सरकार, राज्य सरकार और विज्ञान केंद्र सब मिलकर किसानों के लिए काम करें.

हमारा देश बहुत बड़ा है, लेकिन आज भी आधी आबादी किसानी पर भी निर्भर करती है, इसलिए सरकार भी इनकी पूरी मदद करती है. इसी क्रम में कई किसानों की आमदनी आज के समय में दोगुनी हो गई है. देखा जाए, तो विज्ञान केंद्र किसानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसे इन्हें से अच्छे बीज प्राप्त होते हैं.

खेती और परिवार एक जैसे

इस समारोह में मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि खेती और परिवार की स्थिति एक जैसी होती है. अगर परिवार का बच्चा अच्छा और तरक्की को हासिल करता है, तो परिवार को बहुत खुशी होती है. ठीक उसी प्रकार से जब विज्ञान केंद्र बीज तैयार करता है और उससे खेती में किसानों को बहुत फायदा होता है तो उसे भी बहुत खुशी मिलती है. साथ ही उन्होंने कहा कि सब कुछ अच्छा होने के बाद भी किसानों को प्रकृति पर निर्भर रहना पड़ता है.

ICAR के योगदान को महसूस करते हुए मंत्री तोमर ने कहा कि अगर ये नहीं होते, तो किसानों की क्या भूमिका होती, इसलिए कृषि में जो भी योगदान कर सके करें. साथ ही उन्होंने कहा कि ICAR के इस स्थापना दिवस को संकल्प दिवस के तौर पर बनाया जाए, ताकि आज के दिन नए संकल्प लेकर किसानों की मदद की जा सके. ICAR पर कई किसान भरोसा करते हैं और सरकार भी इनकी मदद करती है.

आने वाले 100 सालों तक कोई भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भूल नहीं पाएगा, क्योंकि उन्होंने देश के लिए कई बेहतरीन कार्य किए हैं, जिससे किसान व देश के आम लोगों को फायदा पहुंचा है. इसी के साथ उन्होंने कई किसानों व वैज्ञानिकों को इस कार्यक्रम में सम्मानित किया. 

English Summary: ICAR 94th Foundation Day and Awards Ceremony Day, Day of resolution for farmers Published on: 16 July 2022, 05:56 PM IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News