आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. ख़बरें

आईएआरआई ने तैयार किया ‘पूसा सन फार्म फ्रीज’, विशेषता जानकार हैरान रह जाएंगे!

सचिन कुमार
सचिन कुमार

आज हम आपको अपनी इस खास रिपोर्ट में एक ऐसे फ्रीज के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें हमारे किसान भाई 2 टन तक अनाज रख सकते हैं. इस फ्रीज को आईएआरआई ने तैयार किया है. यह फ्रीज किसानों के लिए बेहद मुफीदकारी बताई जा रही है. भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने ‘पूसा सन फार्म फ्रीज’ को तैयार किया है.

बता दें कि आईएआरआई किसानों के हित में हमेशा शोध में लगी रहती है, ताकि किसानों को उन्नत सुविधाएं प्रदान किया जाए. बता दें, कि फसलों की उचित देखभाल नहीं हो पाने की वजह से किसान भाइयों की फसल बर्बाद हो जाती है. एक आंकड़े के मुताबिक, हर वर्ष तकरीबन उचित देखभाल न मिंल पाने की वजह से किसानों को कुल 10 फीसद फसलों का नुकसान हो जाता है, लेकिन अब आईएआईआर की गहन शोध के परिंणामस्वरूप सामने आया कि यह फ्रीज यकीनन बड़े काम की साबित हो सकती है.

जानें, पूसा सन फार्म फ्रीजइसकी खूबियां

इस फ्रीज की खूबियां गिनाते हुए संस्थान के निदेशक डॉ. ए.के. सिंह ने बताया कि फलों और सब्जियों का तकरीबन 30 से 40 फीसद बर्बाद हो जाता है और 10 फीसद अनाज बर्बाद हो जाता है, लेकिन अब इस फ्रीज के आने के बाद किसानों के फसलों, फलों व सब्जियों को बचाया जा सकता है. 

इसके साथ ही निदेशक ए.के. सिंह ने खूबियां गिनाते हुए कहा कि फलों, सब्जियों व फूलों को महफूज रखा जा सकेगा. इससे किसानों को आर्थिक नुकसान से भी बचाया जा सकेगा. ए.के सिंह ने बताया कि अगर सब्जियों व फलों को महफूज रखा जाए तो निर्यात की दिशा में इसका भविष्य काफी उज्जवल है. बता दें कि हमारे देश में फलों व सब्जियों का काफी मात्रा में उत्पादन किया जाता है, जिनका अगर हम निर्यात करें तो अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं, लेकिन अफसोस सब्जी सहित फल ऐसे संवेदनशील पदार्थ हैं, जो समय के साथ खराब हो सकते हैं, इसलिए हम इसका निर्यात नहीं कर पाते हैं, लेकिन अब इस मशीन के आने के बाद मौसम की मार से बचाया जा सकता है.   

English Summary: IARI prepared 'Pusa Sun Farm Freeze'

Like this article?

Hey! I am सचिन कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News