1. ख़बरें

स्वस्थ्यवर्धक अनमोल बूटी :शंखपुष्पी

आज हम बात कर रहे हैं. शंखपुष्पी औषधीय पौधे के बारे में जो गुणों से भरपूर होने के साथ काफी असरकारक भी है यह अपने नाम के साथ- साथ अपने फायदों में भी सम्पूर्ण है . यह एक आयुर्वेद  में बहुत महत्वपूर्ण जड़ी-बूटी है . यह दिमाग की शक्ति ,एकाग्रता  और यादाश्त को मजबूत करने का काम करती है . इसका फूल, पत्ते,जड़ , तना यह सब  औषधीय प्रयोजनों के लिए उपयोगी होते है .इसके पौधे की ऊंचाई लगभग 1 फुट होती है और इसकी पत्तियां 1-4 से.मी. तक लम्बी होती है . शंखपुष्पी तीन रंग के पौधे में आता है .-लाल ,नीला और सफ़ेद . इसका सफ़ेद फूलों का पौधा काफी अच्छा माना जाता है . शंखपुष्पी के फल आकार में छोटे, गोल, चमकदार और भूरे रंग के होते है .इसके फूलों का आकार शंख जैसा होता है इसलिए इसे शंखपुष्पी बोला जाता है.

इसके कई महत्वपूर्ण फायदे है .

 दिमागी थकान से निजात : यह मानसिक थकान को दूर करने में अच्छी तरह काम करता है .यह थकान को कम करने और   ज्यादा मात्रा में उत्साह प्रदान करने में काफी लाभकारी है .

विधि : 1 चमच्च शंकपुष्पी पाउडर को पानी के साथ रोजाना दो बार ले .

यादाश्त कमजोरी से निजात: यह भूलने की समस्या पर ध्यान  देकर उसको तेज करने की प्रक्रिया पर काम करती है .जिस से हमारी समस्या काफी हद तक ठीक हो जाती है .

विधि : इसके पाउडर को सुबह उठते ही गर्म पानी के साथ ले .

सिरदर्द से निजात : छोटी उम्र में बच्चों को सिर दर्द की समस्या हो  जाती है उनके लिए शंखपुष्पी एक अच्छा विकल्प है यह मस्तिष्क की नसों को  शांत करके सिरदर्द इलाज़ करने में मदद करती है .

विधि:शंकपुष्पी सिरप के रोजाना दो चम्मच काफी लाभकारी है .

अवसाद से निजात : यह अवसाद में काफी ज्यादा महत्वपूर्ण औषधि है जो हमारे हॉर्मोन में बदलाव लाकर हमारे दिमाग को शांत करती है जिस से हम चिंत मुक्त रहते है .

विधि :  3 माह लगातार इसके सेवन से आप अवसाद से राहत पा लेंगे .

भूख बढ़ाने में फायदेमंद : इसमें  भूख और पाचन को उत्तेजक के गुण भी होते है जिस से हम अपनी भूख और पाचन प्रक्रिया को सही तरीके से चला सकते है .

 

यह भी पढ़े: क्या आपने कभी इमली की चपाती खाई है?

विधि :रोजाना खाने से पहले 2 चम्मच सिरप का सेवन करे .

गर्भपात से निजात : इसके अंदर ख़ास प्रकार के गुण होते है जो हमे गर्भपात जैसी समस्या से छुटकारा देने में काफी हद तक राहत दिलाता है .

 विधि:1.5 ग्राम शंखपुष्पी को 1.5 अश्वगंधा पाउडर में मिलाकर सेवन करने से राहत मिलती है .

शंखपुष्पी के उपयोग के साथ कोई दुष्प्रभाव नहीं देखे गए हैं यह औषधि आपके लिए काफी उपयोगी है इसके रोजाना इस्तेमाल से आप काफी हद तक कई समस्याओ से निजात पा सकोगे और रोगहीन रहोगे यह आपकी बीमारी को अंदरूनी तौर से काफी हद तक नष्ट कर देगी  इससे मानवशरीर स्वस्थ रहता है .

English Summary: Healthy Anmol Boots: Conch

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters