आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. ख़बरें

जमीनी विवाद की वजह से किसान ने बनवाया बुलेटप्रूफ ट्रैक्टर, पढ़िए इसकी खासियत

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Bulletproof Tractor

Bulletproof Tractor

आज तक आपने बुलेटप्रूफ कार के बारे सुना और देखा होगा, लेकिन शायद आपने अभी तक बुलेटप्रूफ ट्रैक्टर नहीं देखा होगा. अब आप सोच रहे होंगे कि बुलेटप्रूफ ट्रैक्टर कैसे बनाया जा सकता है और किसी किसान के खेत में बुलेटप्रूफ ट्रैक्टर का क्या काम होगा? मगर एक किसान ने बुलेटप्रूफ ट्रैक्टर बनाया है और यह पूरी तरह से सच है.

जी हां, दरअसल, हरियाणा के सोनीपत जिले के खुरमपुर गांव के किसान ने बुलेट प्रूफ ट्रैक्टर बनवाया है. इसको बनवाने में लगभग 5 लाख रुपए की लागत लगी है. अब आप के मन में सवाल उठ रहा होगा कि ट्रैक्टर को खेती-बाड़ी में उपयोग किया जा है, लेकिन किसान को आखिरकार ऐसी क्या ज़रूरत पड़ गई है कि उसने अपने लिए बुलेटप्रूफ टैक्ट्रर बनावाया है.

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा के किसानों के बीच यमुना नदी से सटी जमीन को लेकर काफी मतभेद चल रहा है. इन दोनों राज्यों के किसान पानी पर अधिकारों को लेकर आमने-सामने हैं, इसलिए हरियाणा के किसान ने अपने लिए बुलेटप्रूफ ट्रैक्टर बनवाया है, ताकि अगर भविष्य में कभी संघर्ष की स्थिति बनी, तो इस ट्रैक्टर का इस्तेमाल किया जा सके.

बता दें कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा, दोनों राज्यों के किसानों में अक्सर भिड़ंत होती रहती है. इस दौरान कई बार गोलियां भी चल जाती हैं. इस विवाद को लेकर कई बड़ी घटना भी हुई हैं, जिसमें किसानों की मौत तक हो चुकी है. इस यमुना विवाद को सालों बीत चुके हैं, लेकिन अभी तक उत्तर प्रदेश और हरियाणा की सरकार समस्या को हल नहीं निकाल पाई है.

बुलेटप्रूफ ट्रैक्टर की खासियत

यह ट्रैक्टर न सिर्फ बुलेटप्रूफ है, बल्कि इसमें एसी और सीसीटीवी भी लगाया गया है. इस ट्रैक्टर पर लाठी-डंडों का असर नहीं होगा, साथ ही गोलियां भी कुछ नहीं बिगाड़ पाएंगी.

English Summary: Haryana farmer has bulletproof tractor due to dispute of land adjacent to river Yamuna

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News