News

अरहर दाल के बढ़ते दाम पर सरकार ने लिए यह बड़े फैसले

गर्मी का सीजन आते ही दालों के दाम आसमान पार हो गए है जिसके बाद केंद्र सरकार हरकत में आ गई है. दरअसल इस संबंध में केंद्रीय खाद्य, उपभोक्ता और सार्वजनिक वितरण विभाग मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने सचिव कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय, संयुक्त सचिव के साथ लगातार दो घंटे तक बैठक की है. इस बैठक में दालों के बफर स्टॉक से 2 लाख टन दाल को खुले बाजार में जल्दी रिलीज करने का फैसला लिया गया है. दरअसल पासवान ने खाद्य, उपभोक्ता, माममले, कृषि एवं वाणिज्य मंत्रालयों के सचिवों के साथ बैठक की है जिसमें केंद्र की सरकार ने दालों से संबंधित अहम फैसले लिए है.

सरकार ने क्या कहा

सरकार के द्वारा बुलाई गई बैठक में अरहर दाल के आयात पर 2 लाख टन की मौजूदा सीमा को बढ़ाकर 4 लाख टन करने का फैसला हुआ है.इससे पहले अरहर की दाल को बढ़ता देखते हुए अरहर का दाल का 2 लाख टन इंपोर्ट करने का फैसला इससे पहले 4 जून को किया था. दो लाख टन अरहर दाल के इंपोर्ट के लिए हासिल आवेदनों पर 10 दिनों के अंदर लाइसेंस जारी कर दिए जाएंगे. इसके अलावा भारत और मोजाम्बिक के बीच जी2जी करार के तहत इस साल1.75 लाख टन दाल का आयात होगा.

इतना स्टॉक है

 केंद्र सरकार के पास 11.53 लाख टन दालों का बफर स्टॉक मौजूद है. इसके अतिरिक्त 27.32 लाख टन दालों का भंडार नेफेड के पास में पहले से ही मौजूद है . यह पीएसएस योजना के तहत है.अगर कुल बात करें तो सरकार के पास 39 लाख टन दालें सरकार के पास स्टॉक  मौजूद है. इसके अलावा केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान जल्द सभी राज्यों के उपभोक्ता मामलों के मंत्री को पत्र लिखकर और जमाखोरों, सट्टेबाजों के खिलाफ छापेमारी और कड़ी कार्यवाही करने को कहेंगे.

दालों में आया उछाल

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से अरहर की दाल की कीमत में पिछले काफी दिनों से उछाल देखने को मिला है. हालांकि केंद्र सरकार ने कहा कि अरहर दाल के अलावा कोई भी दाल की कीमत नहीं बढ़ी है. अरहर दाल की कीमत 110 से 120 रूपये प्रति किलो तक पहुंच गई है. केंद्र सरकार पर पूरी तरह से नजर रखे हुए है.



Share your comments