News

खुशखबरी! PM-KISAN के 6,000 रुपए के अलावा मिलेगी 5,000 रुपए की फर्टिलाइजर सब्सिडी, जानें क्या है योजना

अगर आप एक किसान है तो यह खबर आपके लिए खुशखबरी साबित हो सकती है. दरअसल कृषि लागत व मूल्य आयोग (CACP) ने केंद्र सरकार से प्रधानमंत्री किसान सम्मांन निधि (PM-KISAN)  के अतिरिक्त किसानों को 5,000 रुपए देने की सिफारिश की है. आयोग ने मोदी सरकार से कहा है कि किसानों (Farmers) को हर साल फर्टिलाइजर सब्सिडी के तौर 5,000 रुपए नकद (Cash Fertilizer Subsidy) दिए जाएं. इसके अलावा आयोग ने सिफारिश में कहा है कि ये राशि दो बार में किसानों के बैंक अकाउंट में सीधे ट्रांसफर (DBT) की जा सकती है. इसके अंतर्गत 2,500 रुपए खरीफ की फसल (Kharif Crop) और 2,500 रुपए रबी की फसल (Rabi Crop) के सीजन में दिए जा सकते हैं.

केंद्र फर्टिलाइजर कंपनियों को सब्सिडी देना बंद कर देगा

गौरतलब है कि कृषि उत्पादों (Farm Produces) के न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर केंद्र सरकार को सलाह देने वाले आयोग की सिफारिश मानी गई तो तो किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi  )योजना के तहत सालाना 6,000 रुपए के अलावा 5,000 रुपए की फर्टिलाइजर सब्सिडी भी सीधे बैंक अकाउंट (DBT) में मिलने लगेगी. वहीं, अगर फर्टिलाइजर सब्सिडी सीधे किसानों के खातों में भेजी जाएगी तो केंद्र सरकार अभी कंपनियों को सस्ता फर्टिलाइजर (Fertilizer Companies) बेचने के लिए दी जाने वाली सब्सिडी (Subsidy) खत्म कर सकती है.

किसानों को हर साल सरकार दे सकती है 11,000 रुपए

फर्टिलाइजर कंपनियों को मिलने वाली सब्सिडी की वजह से किसानों को इस समय बाजार में यूरिया और P&K फर्टिलाइजर सस्ते दाम पर मिलता है. इसके लिए सरकार वास्तविक कीमत (Actual Price) और छूट के साथ तय कीमत (Subsidized Price) के अंतर के बराबर पैसा कंपनियों को दे देती है. सरकार अभी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi ) के तहत तीन बार में 2000-2000 रुपए किसानों को देती है. अभी तक 9 करोड़ किसान इस योजना में रजिस्टर्ड हैं.अगर सिफारिश मानी गई तो सरकार फर्टिलाइजर सब्सिडी के साथ हर साल किसानों को 11,000 रुपए देगी.



English Summary: Fertilizer subsidy of Rs 5,000 will be available in addition to Rs 6,000 of PM-KISAN

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in