1. ख़बरें

सूखे की चपेट में आए किसानों की गुहार, कोई तो सुन ले हमारी पुकार!

सचिन कुमार
सचिन कुमार

Drought in Rajsthan

अपनी बदहाली के आगे घुटने टेक चुके किसानों की गुहार सुनने वाला कोई नहीं है. कल तक जो यह कहते हुए नहीं थकते थे कि हम किसानों की जिंदगी को खुशियों से गुलजार कर देंगे, आज यही लोग इनकी जिंदगी को वीरान कर चुके हैं. आलम यह है कि  ये किसान आज लाचार, बेबस, बदहाल, बदहवास हैं, लेकिन  इनकी सुध लेने वाला कोई नहीं है.

यह वही किसान हैं, जो देश का पेट भरते हैं, लेकिन आज जब इनकी जिंदगी में मुसीबत आ पड़ी है, तो इनकी गुहार सुनने वाला कोई नहीं है. दरअसल, यह पूरा वाकया राजस्थान के हनुमानगढ़ और गंगानगर जिले का है. इन जिलों को खरीफ फसलों को खान कहा जाता है. इन जिलो में कभी फसलें लहलहाती थी, लेकिन अफसोस आज कुदरत की मार इन जिलों पर ऐसी पड़ी है कि ये सूखे की चपेट में हैं.

वहीं,  हनुमानगढ़ और गंगानगर जिले के किसानों का कहना है कि सत्ता में बैठे लोग इनका हाल भी नहीं जान रहा हैं, ऐसे  लोगों से सुद समेत हिसाब लिया जाएगा, लेकिन फिलहाल तो हमें इस बात पर ध्यान देना है कि कैसे इस स्थिति से निपटा जाए.

किसानों का कहना है कि यहां सिंचाई की व्यवस्था न होने से सूखे की मार झेलनी पड़ रही है. इस बार बारिश भी कम हुई है. नहीं तो हर बार कुदरत की मेहरबानी हमें इस सूखे से बचा लेती थी, लेकिन अफसोस इस बार ऐसा नहीं हुआ जिसकी वजह से आज हम सूखे की चपेट में हैं.

सरकार ने कभी सिंचाई की उचित व्यवस्था करने हेतु ध्यान नहीं दिया. हालांकि यहां सिंचाई की उचित व्यवस्था करने हेतु एक नहर है, लेकिन पंजाब में डेम बनने की वजह से अभी यह नहर में हमारे लिए उपयोगी नहीं है. किसानों का कहना है कि सूखे की वजह से कपास और मूंग की फसल तो बर्बाद हो चुकी हैं। ये फसलें 50 प्रतिशत सूखे के चपेट में हैं. 

हम कई बार किसानों के समक्ष  इस पूर मामले को उठा चुके हैं. यहां तक की जिले के किसान भी प्रदर्शन कर चुके हैं, मगर सरकार ने अभी तक इस दिशा में कोई भी हितकारी कदम नहीं उठाया है. खैर, अब आगे चलकर सरकार इस दिशा में किसान भाइयों के लिए क्या कुछ कदम उठाती है. यह तो फिलहाल आने वाला वक्त ही  बताएगा. तब तक के लिए आप कृषि जगत से जुड़ी हर बड़ी खबर से रूबरू होने के लिए आप पढ़ते रहिए....कृषि जागरण.कॉम

English Summary: Farmers in trouble due to drought in Ganganagar and Hanumangarh districts

Like this article?

Hey! I am सचिन कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News