News

बर्बाद होने से बच जाएगी सीमा पर खड़ी फसल

अगर युद्ध होता तो सीमा पर लगी फसलों का गोलाबारी से नष्ट होना स्वाभाविक था इसी वजह से लखनपुर से लेकर पुंछ के मंडी तक किसान भयभीत थे। लेकिन अब हालात ऐसे नहीं है जिसके कारण किसानों ने राहत की सांस ली है। हालांकि  कुछ दिन पहले बार्डर और एलओसी पर लगी धान और मक्का की फसल काटने की चुनौती किसानों के सामने खड़ी थी। जानकारी के अनुसार जम्मू, सांबा और कठुआ जिलों के इंटरनेशनल बार्डर पर फेंसिंग के इस पार बार्डर की हद में करीब 30 हजार हैक्टेयर भूमि पर इस समय धान की फसल लगी है वो भी अधिकतर बासमती धान है।

वहीं राजोरी और पुंछ जिलों में एलओसी के पास करीब 20 हजार हैक्टेयर पर मक्के की फसल है। साथ ही कुछ क्षेत्रों में धान भी है। युद्ध के आसार में फसल चैपट होना स्वाभाविक था। परन्तु जैसे ही युद्ध के आसार कम होते जा रहे हैं किसानों को राहत मिलती नजर आ रही है।



English Summary: Cropped crop will be saved due to waste

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in