News

किसानों के लिए वक्त से आगे और ज़माने से आगे एक बड़ी छलांग के लिए कॉर्टेवा

कहीं भी, कैसे भी और कुछ भी अचीव करने के लिए मेहनत, (असर्ट), डेलीगेट, ट्रांसफॉर्म और पक्सलोने हो सब कुछ संभव हो जाता है. यह जो अंग्रेजी के अच्छे शब्द हैं यही डोव ऐग्रोसइंसेस की कंपनी कटेवा एग्रीसांइस के उत्पाद हैं जो फसल सुरक्षा हेतु कंपनी के बढ़िया फसल सुरक्षा कवच के रूप में किसानो को लुभा रहे हैं.

11वें ग्लोबल एग्रीकल्चर लीडरशिप समिट एंड लीडरशिप अवार्ड्स 2018 के अवसर पर पूसा में भारतीय कृषि एवं खाद्य परिषद् द्वारा एग्रोवोर्ल्ड 2018 का आयोजन किया गया है. फसल सुरक्षा के कवच के रूप में कंपनी कॉर्टेवा एग्रीसांइस के उत्पाद असर्ट रोपाई वाले धान में खरपतवार नियंत्रण के लिए खरपतवार उगाने से पहले इस्तेमाल होने वाले खरपतवार नाशक का इस्तेमाल और उसकी बाद हाथ से खरपतवार उखाड़ना सामान्य बात है. मजदूरों की लगातार कमी और बढ़ती लगत को देखते हुए हाथ से खरपतवारों को उखाड़ना किसानों के लिए एक चुनौती का काम बन गया है. खरपतवार उगने से पहले इस्तेमाल होने वाले खरपतवारनाशक एक अच्छा विकलप है लेकिन किसानों को अक्सर फसल की सुरक्षा की चिंता रहती है. इन चुनौतियों से निपटने के लिए डाउ ऐग्रोसइंसेस ने पेश किया है असर्ट, रोपाई किये धान के लिए एक अनोखा खरपतवारनाशक.धान की फसल के लिए बेहद सुरक्षित है. सवा घास, छोड़ी पत्ती वाले खरपतवार और नरकुल के लिए बहुत ही अच्छा है.

दूसरा है डेलीगेट जिसके इस्तेमाल के तीन फायदे हैं अच्छी फसल के लिए डेलीगेट अपनाइए और खुशियों को तीन गुना जयादा पाइए. थ्रिप्स और इल्लियों पर वार करे तथा सवस्थ फसल भी दें.

तीसरा है ट्रांसफॉर्म जो 60-90 दिन की स्तिथि में ट्रांसफॉर्म छिड़कने से फसल सेहतमंद रहती है. अब फसल स्वस्थ रहे और चमके आपका आनेवाला कल. चूसक कीटों की जबरदस्त रोकथाम, लम्बी अवधी तक रोकथाम करता है, फसल को बेहतर स्वस्थता भी दिलाता है.

चौथा है पेसलोने जो किपयराक्सालट की शक्ति के साथ है.

वक्त से आगे, पस्लोने है धान की खेती करने वाले दूदर्शी किसानो के लिए समाधान, ताकि वे टेली/माहू की असरदार तरीके से रोकथाम करके अपने सपनो को साकार कर सकें पॉवर्ड बाय पायराक्सालट, पेसलोने किसानो को अपनी चिंताओं को भूलकर आत्मविश्वास के साथ दुनिया से आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करता है.

किसान भाई वक्त से आगे और ज़माने से आगे एक बड़ी छलांग लगा सकेंगे.

चंद्र मोहन

कृषि जागरण



Share your comments