News

बड़ी खबर ! 7 करोड़ KCC धारक किसानों के लिए सरकार ने दिया बड़ा तोहफा, अब घरेलू जरूरतों के लिए कर सकेंगे 10% धन का इस्तेमाल

क्या आप कोविड -19 की वजह से देश में लगे लॉकडाउन के बीच अपने तत्काल घरेलू खर्चों को पूरा करने के लिए कठिनाई का सामना कर रहे हैं? अगर आप कर रहें है  तब आपकी चिंताएं यहीं समाप्त हो जाती हैं. दरअसल आज  इस लेख में, हम आपको किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) के बारे में एक आश्चर्यजनक तथ्य के बारे में बताएंगे. किसान क्रेडिट कार्ड योजना (Kisan Credit Card Scheme) न केवल किसानों को आर्थिक रूप से सहायता प्रदान करती है, बल्कि इसका एक हिस्सा घरेलू जरूरतों को पूरा करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

किसान क्रेडिट कार्ड योजना से किसानों की मदद (Kishan Credit Card Scheme helps farmers)

किसान क्रेडिट कार्ड वास्तव में जरूरत के समय आपके कुछ जरूरी घरेलू खर्चों को पूरा करने में आपकी मदद कर सकता है. हालांकि, केसीसी योजना जो छोटे ऋणों के लिए किसानों को ऋण प्रदान करती है, मुख्य रूप से फसलों से संबंधित उनकी वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए है. लेकिन, इसका कुछ हिस्सा अब उनके द्वारा घरेलू जरूरतों को पूरा करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

किसान क्रेडिट कार्ड का घरेलू जरूरतों में मदद? (Kisan Credit Card help in domestic needs?)

घरेलू उपयोग के लिए केसीसी योजना के तहत अल्पावधि सीमा के 10% का उपयोग किसान कर सकते हैं. भारतीय रिजर्व बैंक ने अपनी वित्तीय शिक्षा (किसानों के लिए) अनुभाग के तहत इस संबंध में अपनी वेबसाइट पर जानकारी डाल दी है. दरअसल भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने जानकारी देते हुए कहा है कि अब देशभर के किसान अपने क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल घर की जरूरतों को पूरा करने के लिए कर सकते हैं. आम तौर पर किसान क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल फसल को तैयार होने वाले खर्चों को पूरा करने के लिए किया जाता है. लेकिन कुल राशि का 10 फीसदी किसान घर में भी कर सकते हैं.

इसे भी पढ़े: खुशखबरी ! जन धन खाता, एलपीजी सब्सिडी, पीएम-किसान योजना और अन्य सब्सिडी योजनाओं की जांच इस लिंक से ऑनलाइन करें



English Summary: big news ! Government gave big gift to 7 crore KCC holder farmers, now they can use 10% money for domestic needs

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in