MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

जिन किसानों की किसान आंदोलन में हुई मौत उनको लेकर हुआ बड़ा खुलासा, पढ़ें पूरी ख़बर

पंजाब यूनिवर्सिटी, पटियाला से जुड़े दो अर्थशास्त्रियों द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि किसान आंदोलन के दौरान मरे हुए किसानों के पास औसतन 2.94 एकड़ से ज्यादा जमीन नहीं थी. वहीं, यह आंकड़ा उन सभी दावों का खंडन करता है कि किसान आंदोलन में ज्यादातर 'बड़े किसान' शामिल हैं. अध्ययन के मुताबिक, पिछले एक साल से चल रहे किसान आंदोलन में करीब 600 किसानों की मौत हो चुकी है. यह अध्ययन पिछले 11 महीनों के विरोध प्रदर्शनों के दौरान मरे हुए 600 में से 460 किसानों के आंकड़ों पर आधारित है.

रुक्मणी चौरसिया
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन

पंजाब यूनिवर्सिटी, पटियाला से जुड़े दो अर्थशास्त्रियों द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि किसान आंदोलन के दौरान मरे हुए किसानों के पास औसतन 2.94 एकड़ से ज्यादा जमीन नहीं थी. वहीं, यह आंकड़ा उन सभी दावों का खंडन करता है कि किसान आंदोलन में ज्यादातर 'बड़े किसान' शामिल हैं. अध्ययन के मुताबिक, पिछले एक साल से चल रहे किसान आंदोलन में करीब 600 किसानों की मौत हो चुकी है. यह अध्ययन पिछले 11 महीनों के विरोध प्रदर्शनों के दौरान मरे हुए 600 में से 460 किसानों के आंकड़ों पर आधारित है.

इस अध्ययन के दौरान इस बात की पुष्टि हुई है कि किसानों के विरोध प्रदर्शन में अधिकांश छोटे और सीमांत किसान और भूमिहीन किसान अपनी जान गंवा चुके हैं. मरने वालों में ज्यादातर पंजाब के मालवा क्षेत्र के थे. पंजाब में 23 जिले हैं, जो तीन क्षेत्रों में विभाजित हैं. मालवा में 15 जिले हैं, जबकि दोआबा और माझा क्षेत्रों में चार-चार जिले हैं. अध्ययन के अनुसार मरने वाले किसानों में 80 प्रतिशत पंजाब के मालवा क्षेत्र के थे. वहीं, दोआबा और माझा क्षेत्र की हिस्सेदारी क्रमश: 12.83 फीसदी और 7.39 फीसदी रही.

रिपोर्ट के अनुसार, किसानों के आंदोलन के दौरान हुई मौतों में मौसम की स्थिति ने प्रमुख भूमिका निभाई. इसके अलावा, पर्याप्त भोजन नहीं मिलने से रोग प्रतिरोधक क्षमता में गिरावट को भी मौतों का एक कारण बताया गया है. लंबे समय तक बारिश, लू और भीषण ठंड का मानव शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है. अध्ययन में साफ कहा गया है कि आने वाले दिनों में किसान आंदोलन में और मौतें हो सकती हैं.

सड़क हादसों में किसानों की मौत का आंकड़ा भी बढ़ सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक इन मृत किसानों की औसत उम्र करीब 57 साल थी. इनमें से कई गरीब किसानों पर बहुत अधिक कर्ज है और परिवार की स्थिति दयनीय है. अध्ययन के अनुसार, कई स्वयंसेवी संगठनों ने मृतक किसानों के परिवारों को समर्थन देने की पेशकश की है. पंजाब सरकार ने प्रभावित परिवारों को 5 लाख रुपये का मुआवजा और मृतक किसान के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की घोषणा की है, लेकिन यह समर्थन काफी हद तक अपर्याप्त है.

इस खबर को भी पढ़ें - किसान आंदोलन में शामिल तीन महिला प्रदर्शनकारियों को डंपर ने कुचला, जानिए पूरा मामला

हालांकि, सरकार और गैर सरकारी संगठनों द्वारा उठाए गए इन कदमों का किसानों के आंदोलन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है. उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि इसने गांधीवादी सिद्धांतों और उच्च स्तर की चेतना का पालन किया है. राष्ट्रीय स्तर पर, इसने आम जनता को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करने वाले सरकारी फैसलों के खिलाफ विचारों की निडर अभिव्यक्ति के लिए जगह दी है. अध्ययन में कहा गया है कि इसने न्यायपालिका जैसे संस्थानों को स्वतंत्र निर्णय लेने और भारत के संविधान में निहित नागरिकों के अधिकारों की रक्षा करने में मदद की है.

अध्ययन में कहा गया है कि इस आंदोलन ने पिछले 30 वर्षों के आर्थिक सुधारों को लागू करने के लिए एक वैकल्पिक एजेंडा सामने रखा है. किसान विरोध आंदोलन सभी राजनीतिक दलों से दूरी बनाए रखने में सक्षम रहा है और यह स्पष्ट रूप से न केवल किसान नेतृत्व की परिपक्वता को इंगित करता है, बल्कि राजनीतिक नेतृत्व को यह भी महसूस कराता है कि उन्होंने कृषक समुदाय का विश्वास खो दिया है.

English Summary: Big disclosure about farmer protest Published on: 08 November 2021, 06:17 PM IST

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News