1. ख़बरें

पशुपालन व्यवसाय: डेयरी क्षेत्र के लिए 4,558 करोड़ रुपए की मंजूरी, मिलेगा 95 लाख किसानों को फायदा

dairy loan

केंद्र सरकार ने डेयरी क्षेत्र के लिए 4,558 करोड़ रुपए की योजना को दी मंजूरी, 95 लाख किसानों को होगा फायदा

देश में पशुपालन व्यवसाय किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है. क्योंकि डेयरी से किसानों को अच्छा मुनाफा मिल रहा है. इसलिए सरकार डेयरी व्यवसाय में और वृद्धि करने के लिए आये दिन नए-नए योजनाएं लाती रहती है. डेयरी फार्म का व्यवसाय शुरू करके कोई बेरोजगार या किसान अच्छी कमाई कर सकता है. पारंपरिक खेती से ऊब चुके या घाटा उठा चुके किसानों के लिए पशुपालन सौगात की तरह है. सबसे खास बात यह है कि सरकार इस कारोबार को चालू करने के लिए कई तरह की सुविधाएं मुहैया करा रही हैं, जिसका फायदा उठाकर आप आसानी से पशुपालन व्यवसाय शुरू कर सकते है. इसी क्रम में केंद्र सरकार ने डेयरी क्षेत्र को प्रोत्साहित करने के लिए बुधवार को 4,558 करोड़ रुपए की योजना को मंजूरी दी है.

dairy loan 2

95 लाख किसानों को होगा फायदा

सरकार की इस योजना से करीब 95 लाख किसानों को फायदा होगा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में लिए गए इस निर्णय के बारे में सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने पत्रकारों को जानकारी दी. उन्होंने कहा कि इससे देश में दुग्ध क्रांति में नए आयाम जुड़ेंगे.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में संशोधन

प्रकाश जावड़ेकर ने यह भी बताया कि मंत्रिमंडल ने ब्याज सहायता योजना में लाभ को दो प्रतिशत से बढ़ाकर ढाई प्रतिशत करने के प्रस्ताव को भी मंजूरी प्रदान की है. जावड़ेकर ने कहा कि सरकार ने यह फैसले किसान समुदाय के हित के लिए किए हैं. तो वहीं, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में भी संशोधन को मंजूरी प्रदान की है. संशोधन के जरिये फसल बीमा योजना को अब किसानों के लिए स्वैच्छिक बनाया गया है.

English Summary: Animal Husbandry Business: Rs 4,558 crore approval for dairy sector, 95 lakh farmers will get benefit

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News