MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

कृषि विज्ञान केंद्र के प्रशासनिक भवन का कृषि मंत्री तोमर ने किया उद्घाटन, कहा- KVK पर किसानों का भरोसा

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने आंध्र प्रदेश के कन्दुकुर में कृषि विज्ञान केंद्र का उद्घाटन किया. इस मौके पर नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सभी केवीके कृषि जगत की रीढ़ के समान है, जिन पर किसानों को बहुत ज्यादा भरोसा है.

अनामिका प्रीतम
Agriculture Minister Narendra singh Tomar
Agriculture Minister Narendra singh Tomar

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के अंतर्गत केंद्रीय तम्बाकू अनुसंधान संस्थान से सम्बद्ध कृषि विज्ञान केंद्र (केवीके), कन्दुकुर (जिला प्रकाशम, आंध्र प्रदेश) के प्रशासनिक भवन का उद्घाटन केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किया.

वर्ष 2012 में स्थापित यह केवीके देश के 731 केवीके में से एक है, जिसके कार्यात्मक अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत प्रकाशम व नल्‍लौर जिले के 28 मंडल आते हैं. इस अवसर पर तोमर ने कहा कि सभी केवीके कृषि जगत की रीढ़ के समान है, जिन पर किसानों को बहुत भरोसा है. इसे कायम रखते हुए केवीके वक्त की जरूरत समझकर अपनी गति बढ़ाएं और कृषि क्षेत्र के साथ ही देश आजादी के अमृत महोत्सव के इस शुभ अवसर पर न्यू इंडिया के निर्माण में अपना योगदान दें.

ये भी पढ़ें: कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का किसानों को बड़ा तोहफा, बीज को लेकर तैयार किया रोडमैप

मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद नरेंद्र सिंह तोमर ने कार्यक्रम में कहा कि कृषि उत्पादन की दृष्टि से भारत आज बहुत अच्छी स्थिति में है, जिसमें किसानों व सरकार की किसान हितैषी नीतियों के साथ ही कृषि वैज्ञानिकों का प्रमुख योगदान है. केवीके को कृषि और संबद्ध क्षेत्रों के विज्ञान आधारित परिवर्तन में और ज्यादा सक्रिय व उत्प्रेरक भूमिका निभाने की आवश्यकता है. किसान की आय बढ़े, वे उन्नत फसल उगाएं, अच्छी तकनीक का इस्तेमाल करें, साइल हेल्थ कार्ड का उपयोग कर अपने खेत की मिट्टी के स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त करें, कम से कम रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग करें और प्राकृतिक खेती को अपनाएं, इस दृष्टि से केवीके की भूमिका अपने जिले के किसानों की उन्नति और तरक्की के लिए अहम है.

तोमर ने कहा कि केवीके के वैज्ञानिकों को क्षेत्रवार स्थिति तथा जलवायु के अनुसार सतत कार्य करने की आवश्यकता है. रासायनिक उर्वरकों के अंधाधुंध प्रयोग से हो रही दोहरी हानि, जिसमें मृदा एवं मानव स्वास्थ्य दोनों पर प्रतिकूल  प्रभाव पड़ता है, को कम करने और किसानों को विकल्प से अवगत कराने में वैज्ञानिकों को और अधिक कार्य करने की आवश्यकता है. प्राकृतिक खेती अपनाकर किसान मिट्टी व मानव स्वास्थ्य की रक्षा के साथ खेती की लागत में भी कमी करके अपनी आय बढ़ा सकते हैं. किसानों को फसल विविधीकरण अपनाने के लिए प्रेरित करने की भी जरूरत है.

उन्होंने कृषि क्षेत्र को अधिक मजबूत बनाने पर ज़ोर दिया, जिससे कि किसान और गांव मजबूत होंगे, बाज़ार भी चलेंगे, लोगों की जेब में पैसा होगा और देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी. किसान गुणवत्तायुक्त उत्पाद पैदा करके अच्छी मार्केटिंग कर बेहतर आय प्राप्त कर सकेंगे.  तोमर ने कहा कि कृषि उत्पादों का निर्यात पौने 4 लाख करोड़ रुपये का हो चुका है, जिसमें कृषि वैज्ञानिकों का बहुत बड़ा योगदान है. उन्होंने नए बन रहे 10 हजार एफपीओ के माध्यम से ज़्यादा से ज़्यादा किसानों को जोड़ने पर बल दिया.

डेयर के सचिव एवं आईसीएआर के महानिदेशक डा. त्रिलोचन महापात्र ने भी संबोधित किया. इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक  एम. महिधर रेड्डी, आईसीएआर के डीडीजी (फसल विज्ञान) डा. टी.आर. शर्मा, डीडीजी (कृषि प्रसार) डा. ए.के. सिंह, एडीजी डा. आर.के. सिंह, सीटीआरआई के निदेशक डा. डी. दामोदर रेड्डी व अन्य भी उपस्थित थे.

English Summary: Agriculture Minister Narendra singh Tomar inaugurated the administrative building of KVK Published on: 10 June 2022, 05:40 PM IST

Like this article?

Hey! I am अनामिका प्रीतम . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News