News

9 साल की बच्ची ने केरल में मदद के लिए अपनी पॉकेट मनी से दिए 9 हजार रुपए

केरल में आई भयावह बाढ़ की वजह से वहां की जन-जीवन त्रस्त हो गई है. सरकार के साथ कई अन्य संस्थाएं भी मदद के लिए आगे आ रही हैं. वहीं राज्य के बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद के लिए एक ऐसा हाथ भी आगे आया जिसने लोगों का दिल जात लिया. केरल की आपदा को देखते हुए तमिलनाडु की एक 9 साल की बच्ची ने अपने पॉकेट मनी को दान कर दिया. बच्ची ने यह पैसे चार साल तक साइकल खरीदने के लिए जमा किए थे. उसके इस सराहनिय कदम को देखते हुए एक प्रमुख साइकल बनाने वाली कंपनी ने अब बच्ची के सपनों को पूरा करने के लिए उसे साइकल तोहफे में देने का वायदा किया है.

तमिलनाडु की विल्लुपुरम क्षेत्र की अनुप्रिया ने बताया की किस तरह वो टीवी पर केरल में आए बाढ़ से तबाही को देखकर विचलीत हो गई और साइकल के लिए जमा किए हुए 9000 रुपए को दान में देने की फैसला किया. उसने बताया, 'मैंने एक साइकल खरीदने के लिए पिछले चार वर्षों से पैसे (करीब 9,000 रुपये) जमा किए थे. लेकिन जब मैंने टीवी पर केरल बाढ़ के दृश्य देखे तो पैसे दान करने का फैसला किया।'  

अनुप्रिया के मदद के लिए हाथ बढाने के बाद उसने सबका दिल जीत लिया और चारो ओर उसकी ट्विटर पर प्रशंसा होने लगी. हीरो साइकल्स ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर बच्ची के मानवता के समर्थन के उसके भाव की प्रशंसा की और कहा कि उसे उनकी तरफ से एकदम नई साइकल मिलेगी। हीरो मोटर्स कंपनी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक पंकज एम मुंजाल ने अनुप्रिया को एक नेक इंसान बताया और उसे हर साल एक नई साइकल देने का आश्वासन दिया।

बता दें की केरल में भारी बारीश ने बाढ़ का रूप ले लिया और पिछले कुछ दिनों से वहां की जन- जीवन त्रस्त हो गई है. आंकड़ों की अगर बात करें तो 29 मई से 19 अगस्त तक लगभग 400 लोगों की मौत हो चुकी हैं और लोगों के लिए कुल 5645 शिविर लगाए गए हैं जिसमें 7,24,649 लोग रह रहे हैं. एसोसिएशन ऑफ पलांटर्स ऑफ केरल के अनुसार राज्य को लगभग 6 अरब रुपए का नुकसान होने का अनुमान है जिसमें चाय क्षेत्र को करीब 1.50 अरब रुपए, रबर की फसल को लगभग 40 प्रतिशत, इलायची की खेती को लगभग तीन अरब रुपए नुकसान होने का अनुमान लगाया गया है.

                                                           कृषि जागरण डेस्क  



Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in