1. ख़बरें

पीएम किसान योजना की किश्त लेने के लिए 16 हजार किसानों ने भर दिए फर्जी आधार नंबर, क्या जिस खाते से होगा लिंक उसमें जाएगी राशि?

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

केंद्र सरकार की पीएम किसान सम्मान निधि योजना की अगली किश्त आने वाली है. इसके चलते किसानों को कृषि विभाग की तरफ से एक मौका दिया गया है कि वह अपने आवेदन को एक बार अच्छी तरह जांच लें, ताकि वह किसी गलती की वजह से योजना का लाभ उठाने से वंचित न रहे जाएं. इस बीच एक उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर से एक खबर सामने आई है कि यह लगभग 16 हजार किसानों ने अपने आवेदन में फर्जी आधार नंबर दर्ज किए हैं. फिलहाल, कृषि विभाग द्वारा किसानों की जांच लगातार की जा रही है. अगर वह सही आधार नंबर उपलब्ध नहीं करा पाए, तो उन्हें इस योजना से अलग कर दिया जाएगा.

ये खबर भी पढ़ें: Monsoon 2020: किसान जून से सितंबर तक करें लोकाट की बागवानी, मानसून की बारिश दिलाएगी बेहतर उत्पादन

जानकारी के लिए बता दें कि केंद्र सरकार ने पीएम किसान सम्मान निधि योजना को आधार बेस्ड कर दिया है. इससे पहले  योजना का लाभ उठाने के लिए आधार कार्ड की अनिवार्यता नहीं थी, इसलिए कई किसान ऐसे ही योजना में शामिल हो गए, जो इसके पात्र ही नहीं थे, लेकिन अब आधार नंबर की सीडिंग कराने के बाद ही किसानों को योजना का लाभ दिया जा रहा है. बता दें कि अब किसान पीएम सम्मान निधि योजना का लाभ तभी उठा सकते हैं, जब उनका आधार बैंक खाते से लिंक होगा. अभी तक जिन किसानों ने अपने बैंक खाते को आधार से लिंक नहीं कराया है, उन्हें लगातार खाते को लिंक कराने के लिए कहा जा रहा है.

आपको बता दें कि इस योजना के जरिए लॉकडाउन के दौरान लगभग 40 हजार नए किसानों को लाभ दिया गया है. अब तक कुल 1 लाख 92 हजार किसानों को किश्त मिल चुकी है. फिलहाल, फर्जी किसानों के आधार कार्ड सही कराने के निर्देश दिए गए हैं. अगर किसान सही आधार नंबर उपलब्ध नहीं करा पाते हैं, तो उन्हें योजना से वंचित करना पड़ेगा. 

​ये खबर भी पढेें:  New business ideas: इन 5 नए बिजनेस से मिलेगा लॉकडाउन के बाद सबसे ज्यादा मुनाफ़ा, विदेशी कंपनियां भी कर चुकी हैं शुरुआत

English Summary: 16 thousand farmers filled fake Aadhaar numbers to take installment of PM Kisan Yojana

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News