1. लाइफ स्टाइल

सर्दियों में सेहत के लिए प्राकृतिक जड़ी-बूटियों का तोहफा है : च्यवनप्राश

च्यवनप्राश का सेवन सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है, लेकिन खास तौर इसका प्रयोग सर्दी के दिनों में बेहद लाभदायक होता है. आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों को मिलाकर बनाया गया है. च्यवनप्राश कई तरह की बीमारियों से आपको बचाता है, और आपको सेहतमंद शरीर प्रदान करता है.   

च्यवनप्राश के फायदे :

च्यवनप्राश खाने से कई प्रकार के फायदे होते हैं. च्यवनप्राश के सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है. पाचन शक्ति बढ़ती है और याददाश्त तेज होती है. शरीर में नई ऊर्जा का संचार करता है और जल्द बुढ़ापा आने से रोकता है. रेस्पिरेटरी सिस्टम को मज़बूत करता है. जुकाम और संक्रमण से भी आपका बचाव  करता है. आजकल खाने में कोलेस्ट्रोल की मात्रा ज्यादा होती है जिस से दिल संबंधित बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है. जिस कारण युवकों में हृदयरोग होने का खतरा बढ़ जाता है. इसमें ऐसे हर्ब्स होते हैं जो शरीर से टॉक्सिन्स को निकालते हैं और ब्लड सरकुलेशन को बेहतर बनाते हैं. यह अनोखे हर्ब्स से बना होता है जो रक्त को साफ करके शरीर की प्राकृतिक प्रोसेस को संतुलित करने में मदद करता है

च्यवनप्राश का सेवन :

इसे आप ठंडे या गर्म दूध के साथ भी ले सकते हैं. इसको आप रोटी में लगाकर भी खा सकते हैं. च्यवनप्राश को सालभर खाया जा सकता है. खट्टी और मसालेदार चीजें च्यवनप्राश खाने के आधे घंटे बाद ही खाएं क्योंकि ये जड़ी-बूटियों के प्रभाव को कम कर देती हैं. दस्त, नकसीर या छाले होने पर च्यवनप्राश का प्रयोग न करें क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है. इसे  5 साल से कम उम्र के बच्चों को यह नहीं खिलाना चाहिए. अगर बच्चों को दे भी रहे हैं तो एक बार मे आधा चम्मच से अधिक न खिलाए.

च्यवनप्राश के नुक्सान :

बारिश के दिनों  में अक्सर हमारी पाचनक्रिया थोड़ी ख़राब हो जाती है. इसलिए इस दौरान च्यवनप्राश खाने से परहेज करें क्योंकि यह भारी होता है. जिससे अपच, एसिडिटी और कब्ज आदि की समस्या हो सकती है. आंवला के चलते कुछ लोगों को दस्त होने की शिकायत भी हो जाती है. इसमे शर्करा की मात्रा ज्यादा होती है इसलिए मधुमेह के रोगी इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह ले.

मनीशा शर्मा, कृषि जागरण

English Summary: Natural herbs are a gift for health in winter: Chyavanprash

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News