1. लाइफ स्टाइल

गुच्छी मशरूम खाओ हर रोग भगाओ, पढ़िए इसकी ख़ासियत

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

दुनियाभर में कई तरह के मशरूम की खेती होती है. यह एक तरह का फंगस होता है. इसकी कई प्रजातियां पाई जाती हैं. इसकी सब्जी अधिकतर लोगों को बहुत पसंद होती है, लेकिन क्या आपने कभी गुच्छी मशरूम खाया है? ये देशभर में स्पंज मशरूम के नाम से मशहूर है. आज हम अपने इस लेख में गुच्छी मशरूम पर ही चर्चा करेंगे. यह एक प्रकार का स्पंज मशरूम है, जो हिमालय की पहाड़ियों पर उगता है. वहां की भाषा में इसे छतरी, टटमोर या डूघरो कहते हैं. इसके अलावा यह शिमला, चंबा, कुल्लू, मनाली समेत कई पहाड़ी जिलों के जंगलों में पाया जाता हैं. इसमें प्रोटीन, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन सी, बी, डी समेत कई औषधीय गुण मौजूद होते हैं, इसलिए इसको औषधीय नाम मार्कुला एक्सक्यूपलेटा से भी जाना जाता है. इस मशरूम को खाने से कई बीमारियां से छुटकारा मिलता है.

गुच्छी मशरूम खाने के फ़ायदे

इसको खाने से हृदय रोग नहीं होता है.

इसका उपयोग कई प्रकार की दवाएं बनाने में होता है.

सर्दी-ज़ुकाम और मोटापे से लड़ने की क्षमता बढ़ाता है.

प्रोस्टेट स्तन कैंसर की आशंका को कम करता है.

टयूमर बनने से रोकता है.

कीमोथेरेपी से आने वाली कमजोरी को दूर करने में सहायक है.

सूजन दूर करने का लाभदायक फॉर्मूला है.

इसको खाने से शरीर की थकान दूर हो जाती है, साथ ही शरीर में पाए जाने वाले हानिकारक प्रभावों को कम करता है.

हड्डियोंको मज़बूत बनाता है.

यह गर्भवती महिलाओं के लिए पौष्टिक आहार साबित है.

आजकल ज्यादातर लोग गुच्छी मशरूम के गुणों से अनजान हैं, इसलिए इसका पूरा फायदा नहीं उठा पाते हैं. यह ऊंचे पहाड़ी इलाके के घने जंगलों में कुदरती रूप से पाया जाता है, लेकिन आज के दौर में जंगलों की अंधाधुंध कटाई हो रही है. इस वजह से इसकी मात्रा कम होती जा है. बता दें कि यह सबसे महंगी सब्जी कही जाती है. इसको सब्जी के रूप में खाया जाता है. इसकी सप्लाई शहरों के बड़े होटलों में होती है. खास बात है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गुच्छी मशरूम बहुत पसंद है.

ये भी पढ़ें: पथरी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अपनाएं कुछ घरेलू नुस्खे

English Summary: Morel mushrooms cure many diseases

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News