1. लाइफ स्टाइल

Karwa Chauth Special: करवा चौथ के दिन पड़ रहे कई शुभ संयोग, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

इस बार के करवा चौथ 2022 के दिन कई बेहद खास शुभ संयोग बन रहे हैं, जिसके चलते कल का दिन सुहागन महिलाओं के लिए और भी खास बन जाएगा.

लोकेश निरवाल
Karva Chouth
हिंदू धर्म में करवा चौथ के दिन सुहागन महिलाएं रखती हैं व्रत

अक्टूबर का महीना शुरू होते ही त्योहारों की लहर भी शुरू हो जाती है. हिंदू धर्म में करवा चौथ का त्योहार बहुत ही खास माना जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती है. बता दें कि करवा चौथ के व्रत को हिंदू धर्म में बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता हैइसलिए इस व्रत को न केवल सुहागन महिलाएं रखती हैं. बल्कि कुंवारी लड़कियां भी मनचाहा वर पाने के लिए रखती हैं. करवा चौथ के व्रत को बाकी सभी व्रत के मुकाबले बेहद कठिन माना जाता हैक्योंकि महिलाएं इस दिन पानी तक नहीं पीती है. यानी की यह व्रत निर्जला रखा जाता है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन करवा चौथ का व्रत रखा जाता है और इस बार हिंदू कैलेंडर के मुताबिककरवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर 2022 दिन गुरुवार को पड़ रहा है. शास्त्रों के मुताबिक कल के दिन कई शुभ संयोग भी बन रहे हैं. करवा चौथ के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग के साथ लक्ष्मी नारायण के शुभ योग भी बन रहे है. इसके अलावा कल से बुधादित्य योग भी बन रहा है. ऐसे में करवा चौथ का व्रत महिलाओं के लिए और भी फलदायक रहेगा. तो आइए इस लेख में हम करवा चौथ 2022 के शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में जानते हैं.

करवा चौथ 2022 शुभ मुहूर्त

  • चतुर्थी तिथि - 13 अक्टूबर 2022 के दिन सुबह 01 बजकर 59 मिनट से शुरू. 

  • चतुर्थी तिथि समाप्त - 14 अक्टूबर 2022 के दिन सुबह 03 बजकर 08 मिनट तक रहेगा. 

  • करवा चौथ पूजा का शुभ मुहूर्त - 13 अक्टूबर शाम के समय 5 बजकर 54 मिनट से लेकर 7 बजकर 09 मिनट तक रहने वाला है. इस दौरान सभी महिलाएं पूजा कर सकती हैं.

करवा चौथ की पूजा विधि:

  • करवा चौथ के दिन सुबह जल्दी उठकर घर को स्वच्छ करने के बाद स्नान आदि करें.

  • इसके बाद सूर्योदय से पहले सरगी ग्रहण करें और फिर दिनभर निर्जला व्रत रखें.

  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार करवा चौथ के दिन महिलाएं दोपहर के समय एक साथ बैठकर करवा चौथ की कथा सुनती हैं.

  • फिर चंद्रमा निकलने से पहले पूजा करना शुरू करें. इस दौरान भी महिलाएं करवा चौथ की कथा को दोबारा सुनती हैं.

  • इसके बाद चंद्रमा को छलनी में दिया रखकर देखें.

यह भी पढ़ें: Karwa Chauth 2020: करवा चौथ के दिन रंग-बिरंगे फूलों से सजाएं अपने बाल, लगेंगी बेहद खूबसूरत

  • फिर महिलाएं चंद्रमा को अर्घ्य देकर पूजा करें.

  • पूजा करने के बाद पति अपनी पत्नी को पानी पिलाकर व्रत को खोलते हैं.

  • अंत में महिलाएं करवा चौथ पूजा की थाली को घर की बड़ी बुजुर्ग महिलाओं या फिर अपनी सास को देती हैं.

English Summary: Many auspicious coincidences are happening on the day of Karva Chauth Published on: 12 October 2022, 01:59 IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News