1. लाइफ स्टाइल

हल्दी बचा सकती है घातक बिमारियों से

KJ Staff
KJ Staff
Turmeric

Turmeric

आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी से हमारा शरीर बिमारियों का घर बनता जाता है. इस स्थिति में हमें अपने शरीर का ध्यान रखना बहुत जरुरी है. लेकिन हम दवाए खाने के ज्यादा आदि हो गये हैं. यदि प्राकृतिक वस्तुओं को इस्तेमाल किया जाए तो काफी हद तक स्वस्थ रहा जा सकता है. हल्दी एक ऐसी ही प्राकृतिक औषधि है .  

हल्दी जहां एक ओर खाने का स्वाद और रंग बढ़ा देती है, वहीं इसका उपयोग सौंदर्य वृद्धि और त्वचा की समस्याओं को दूर करने में भी किया जाता है. इसके अलावा हल्दी शरीर को स्वस्थ रखने में भी बहुत सहायक है. निरोग रहने के हल्दी के कुछ बेमिसाल उपाय हम आपको यहां बता रहे हैं.

  • पाचन बनाए दुरुस्‍त कई रिसर्च के मुताबिक हल्‍दी रोजाना खाने से पित्‍त ज्‍यादा बनता है. इससे खाना

  • डायबिटीज रखे कंट्रोल बायोकेमिस्‍ट्री और बायोफिजिकल रिसर्च की स्‍टडी के अनुसार हल्‍दी के नियमित सेवन से ग्‍लूकोज का लेवल कम और टाइप 2 डायबिटीज का खतरा टल सकता है.

  • कैंसर से बचाव हल्‍दी एक ताकतवर एंटीऑक्‍सीडेंट है जो कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाओं से लड़ती है.

  • खून रखे साफ हल्‍दी वाला पानी पीने से खून नहीं जमता और यह खून साफ करने में भी मददगार है.

  • दिमाग बनाए स्‍वस्‍थअगर आप सुबह उठकर गरम पानी में हल्दी मिलाकर पीते हैं तो यह दिमाग के लिए बहुत अच्‍छा रहता है.

  • शरीर की सूजन करे कम हल्दी में मौजूद करक्यूमिन की वजह से यह जोड़ो के दर्द और सूजन को दूर करने में दवाइयों से भी ज्‍यादा अच्‍छा काम करता है.

  • बढ़ती उम्र थाम ले हल्‍दी का पानी नियमित रूप से पीने से फ्री रैडिकल्‍स से लड़ने में सहायता मिलती है जिससे शरीर पर उम्र का असर धीरे-धीरे पड़ता है.

  • शरीर को डिटॉक्स करने में मददगार बॉडी को डिटॉक्स करने के लिए गर्म पानी में नींबू, हल्दी पाउडर और शहद मिलाकर पिएं. यह ड्रिंक शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकालने में बहुत मददगार है.

  • करक्यूमिन रसायन करता है दवा का काम हल्दी में करक्यूमिन नामक रसायन पाया जाता है जो दवा के रूप में काम करता है और यह शरीर की सूजन कम करने में सहायक होता है.

English Summary: Benefits of Turmeric Use

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News