MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. औषधीय फसलें

बेहोश कर देगा ये पौधा, पढ़िए क्यों है इतना हानिकारक?

आक का पौधा जितना हम सभी की सेहत के लिए फायदेमंद होता है, उतना ही इस पौधे के फूल सूंघना हानिकारक होता है. इसे सूंघने से व्यक्ति बेहोशी हो सकता है, साथ ही उसकी मौत भी हो सकती है.

स्वाति राव
स्वाति राव
Aak Plants
Aak Plants

हम सभी को पेड़ पौधों से बहुत प्यार होता है क्योंकि पेड़ हमें साफ़, खुशहाल और विषैल मुक्त हवा प्रदान करते हैं, जो हमें कई स्वास्थ्य से जुड़े लाभ का सुख देते हैं. पेड़ हम सभी की जिंदगी में एक अहम और मुख्य भूमिका निभाते हैं.

इसलिए हम सभी लोग अपने घर, बगीचे, घर के आस-पास, सोसाइटी के पार्क में पेड़ों को लगाना बहुत पसंद करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि जो पौधे हमें जीवन दान देते हैं, उनमें से एक पौधा ऐसा भी है, जो हम सभी की सेहत के लिए बहुत खतरनाक साबित होता है. अगर नहीं, तो आइये इस बात की जानकरी आज हम आपको इस लेख के माध्यम से  प्रदान करते हैं.

दरअसल, हम जिस पौधे की बात कर रहे हैं, वो आक का पौधा है. आक के पौधे को देशी भाषा में अकौआ के नाम से जाना जाता है. आक का पौधा बहुत ही विषैला होता है. इसको सूंघने मात्र से आप बेहोश हो सकते हैं, साथ ही इसके सूंघने मात्र से आपको मौत का सामना भी करना पड़ सकता है. यदि आपके घर में या घर के आस-पास के पार्क या बगीचे में आक का पौधा पाया जाता है, तो आप इस पौधे से दूरी बनाए रखें. इस पौधे से हमेशा दूर रहें. यह दुनिया का सबसे खतरनाक पौधा है, जिसको सूंघने से हमारे मस्तिष्क पर बहुत बुरा असर पड़ता है और यह हमारे मस्तिस्क की नसों को भी सूखा देता है, जिससे व्यक्ति की मौत भी हो जाती है.

इसे पढ़ें- आक-अर्क पौधा है औषधीय गुणों का भंडार, जानिए इसके रोचक तथ्य

आयुर्वेद में है आक के कई फायदे (There Are Many Benefits Of Aak In Ayurveda)

आक का पौधा जितना जहरीला होता है, उतना ही इसका आयुर्वेद में उपयोग किया जाता है. जी हाँ, आक के पौधे के बहुत स्वास्थ्य संबंधी फायदे होते हैं, जिन्हें शायद आप भी नहीं जानते होंगे.

इस पौधे का इस्तेमाल शरीर में होने वाले फोड़े और  फुंसियों के लिए किया जाता है. इसके अलावा आक का पौधे के पत्ते और इसका फल भगवन शिव को समर्पित किया जाता है. 

English Summary: By smelling the leaves of this plant, one becomes unconscious as well as the danger of death, do not smell its flower by forgetting Published on: 23 March 2022, 06:04 IST

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News