1. औषधीय फसलें

कालमेघ के पौधे का सेवन करने से मिलते है ये हैरान कर देने वाले फायदें

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा
kaalmegh

कालमेघ के पौधे का सेवन करने से मिलते है ये हैरान कर देने वाले फायदें

कालमेघ एक औषधीय पौधा है जो जंगलों में पाया जाता है. इसकी पैदावार ज्यादातर वर्ष ऋतु में होती है. इसके फूल  हल्के नीले रंग के होते है यह आकर में भी ज्यादा बड़ा नहीं होता. इसकी पत्तियों में खुशबूदार तरल पदार्थ होता है. जो कई तरह की समस्या को खत्म करने में प्रयोग किया जाता है. तो आज हम आपको इसके फायदों के बारे में बताएंगे. जिसे आप अपनाकर कई तरह के रोगों से छुटकारा पा सकते है.

पेट सम्बंधित समस्या से बचाव (Stomach Problems)

इसके पत्तों को रोजाना पीने से पेट सम्बंधित कई प्रकार की समस्याओं से निजात मिलती है. इसका सेवन गैस व एसिडिटी को जड़ से खत्म करने में काफी लाभकारी है.

injury

फोड़े-फुंसियों से बचाव (Pimples problems)

कालमेघ के पौधे का उपयोग शरीर के जख्मों, फोड़े-फुंसियों को दूर करने के लिए भी किया जाता है. इसके पत्तों को अच्छे से उबाल कर उसके पानी को जख्मों या फुंसियों पर लगाने से घाव कुछ हफ्तों में ठीक हो जाते है और उनके निशान भी नहीं पड़ते है. 

मलेरिया से बचाव (Malaria)

इसका सेवन काली मिर्च के साथ करने से मलेरिया रोग से जल्दी राहत मिलती है.

खून शुद्ध करने में फायदेमंद  (Blood Purify)

इसके पत्तों को उबाला कर रोजाना सेवन करने से शरीर का खून शुद्ध होता है और इसके साथ कई तरह समस्याओं से भी बचाव होता है.

mosquito

पेट के कीड़े से छुटकारा (Stomach bug Problem)

पेट के कीड़ों से छुटकारा पाने के लिए आपको डेढ़ चम्मच कालमेघ के रस में 2 चम्मच हल्दी और चीनी मिलकार पीने से आपको कीड़ों से निजात मिलती है.

हृदय संबंधित समस्या से निजात (Heart Problems)

अगर आप इसका सेवन हफ्ते में 3 बार करते है तो आपको हृदय संबंधित रोगों से भी निजात मिलती है और आपका दिल भी स्वस्थ रहता है.

English Summary: Benefits of kaalmegh medicinal palnt

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News