1. बागवानी

Rose Farming: आप भी गुलाब की खेती से कर सकते हैं मुनाफे की सारी हदें पार!!

पिया कलवानी
पिया कलवानी

जहां-जहां खुशियां वहां-वहां गुलाब के सुन्दर-सुन्दर फूल, गुलाब अपने साथ खुशनुमा पलों की सौलात लाना कभी नहीं भूलता, फिर चाहे वो भारी मुनाफा हो या मुस्कराहट, गुलाब की खेती मुनाफे की सारी हदें पार करती जा रही है.

बाजार में चाहे कितनी भी गिरावट आ जाए लेकिन रंग बिरंगी गुलाब की पंखुड़ियां सभी का मन खिला देती हैं इसीलिए इनकी मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती ही नजर आ रही है, जहां किसान दूसरी फसलों की खेती कर घाटे का सौदा उठा रहा है वहीं दूसरी ओर गुलाब की खेती कर किसानों को मालामाल होने का एक सुनहरा अवसर मिल रहा है, जो किसान भाई गेहूं की खेती कर लगभग 50,000 तक की कमाई उठा पाते हैं वही किसान भाई गुलाब की खेती कर 11 लाख से ज्यादा की रकम आराम से हासिल कर सकते हैं.

यह कहना बिल्कुल भी गलत नहीं होगा कि गुलाब फूलों का राजा है और हम सब इसे पसंद करते हैं, गुलाब की खेती केवल पूरे भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी की जाती है और आप विदेशों में गुलाब को निर्यात भी कर सकते हैं.

वैसे तो गुलाब की खेती पूरी दुनिया में ही काफी मशहूर है लेकिन मुख्य रूप से हमारे देश भारत में गुलाब की खेती सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश, कर्नाटक तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, हरियाणा, बिहार, मध्य प्रदेश पंजाब, गुजरात जम्मू कश्मीर और महाराष्ट्र में नजर आती है.

आप गुलाब को विभिन्न तरीकों से व्यवसायिक रूप दे सकते हैं, जैसे कि गुलाब जल, गुलकंद, गुलाब तेल, डाली सहित या कट फ्लावर आदि इसके उचित विकल्प हैं.

आप 1 एकड़ जमीन पर गुलाब की खेती कर 11 लाख रुपए तक का मुनाफा हासिल कर सकते हैं, सबसे खास बात गुलाब की खेती करने में यह है कि एक पौधा आपको करीब 5 साल तक लगातार फूल देने में सक्षम है।

गुलाब की खेती करने के लिए किस प्रकार की जलवायु और भूमि की आवश्यकता पड़ती है? (Climate and Soil required for Rose Farming)

गुलाब की खेती करने के लिए ठंड और शुष्क जलवायु सबसे सही मानी गई है और इसके लिए आप जुलाई, अगस्त और सितम्बर का महीना चुन सकते हैं, अक्टूबर तक गुलाब बेहतरीन तरीके से उगता है और मार्च के महीने में यह पूरी तरह अपने गहरे गुलाबी रंग,  सम्मोहित करने वाली खुशबू यानि असली सौंदर्य रुप को धारण करने में सक्षम हो जाता है।

 तभी तो पहाड़ी क्षेत्रों में, दक्षिण और उत्तर भारत के मैदानों में ठंड के मौसम में गुलाब की खेती जम के की जाती है, जिन क्षेत्रों में दिन का तापमान 25 से 30 डिग्री सेंटीग्रेड रहता है और रातें थोड़ी ज्यादा ठंडी होती हैं वहां गुलाब की खेती शानदार तरीके से होती है.

गुलाब केवल अपनी सुंदरता के कारण नहीं जाना जाता बल्कि इसमें औषधीय गुण भी समाए हुए हैं, यह दुनिया का सबसे पुराना फूल है जिसे इंसानों ने उगाना शुरू किया था.

(Benefits of Rose Petals in Hindi) आइए जानते हैं गुलाब की पंखुड़ियों के कुछ शानदार फायदे:-

गुलाब की मन मोहित करने वाली सुंदरता और सुगंध से मानसिक उत्साह बढ़ जाता है और तनाव बहुत हद तक कम हो जाता है.

गुलाब की पंखुड़ियों में विटामिन सी की भारी मात्रा पाई जाती है जिस वजह से हम किसी भी संक्रमण से अपना बचाव करने में सक्षम हो जाते हैं.

गुलाब की पंखुड़ियों में ऐसी शक्तियां है जिससे कि आप डिप्रेशन यानी अवसाद से मुक्ति पा सकते हैं और काफी हद तक दूरी बना सकते हैं।

फाइबर युक्त गुलाब की पंखुड़ियां खाने से आप कब की परेशानी को भी दूर भगा सकते हैं।

यूरिनरी ट्रैक इंफेक्शन जैसी गंभीर परेशानी को खत्म करने के लिए गुलाब के फूल में मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण कारगर साबित होते हैं.

गुलाब की पंखुड़ियों का सेवन करने से आपको नियमित रूप से नींद आने लगती है.

अगर आपको मुहांसों से छुटकारा पाना है तो गुलाब की पंखुड़ियों का सेवन करना एक बेहतरीन इलाज है.

गुलाब की खेती करने से कितनी उपज हो जाती है? (Production capacity of Rose Farming)

गुलाब की खेती करने से 4 महीने में ही फूल आना शुरू हो जाते हैं और आपको लगभग 40 किलो या इससे भी ज्यादा फूल 1 एकड़ जमीन पर नजर आएंगे.

गुलाब की खेती से मुनाफा (How much profits can you earn from Rose Farming)

अगर आपको 10 से 15 साल तक लगातार अच्छा पैसा कमाना है तो गुलाब की खेती एक बेहतरीन विकल्प रहेगा, क्योंकि गुलाब की खेती आपको हर महीने 1 बीघा जमीन के हिसाब से 50,000 तक की कमाई आसानी से दे सकती है, बस इसी तरह गुलाब की खेती कर आप साल में 11 लाख आराम से कमा सकते हैं.

English Summary: Rose Farming: Rose farming can exceed all limits of profit

Like this article?

Hey! I am पिया कलवानी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News