1. बागवानी

सर्दियों के मौसम में फूलों में पोषण प्रबंधन करने का तरीका

flowers during winter season

Flowers during Winter Season

थामी हुई खुशी बीज है, बांटी गई ख़ुशी फूल है. कुछ ऐसा ही सर्दियों में खिले फूलों का भी होता है. फूलों की अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए उर्वरकों का संतुलित उपयोग बहुत आवश्यक है. इसके उपयोग से खेत की उर्वरा शक्ति बनी रहती है साथ ही पौधों की वृद्धि भी अच्छी होती है.

संतुलित खाद क्या होता है?

किसी स्थान विशेष की मिट्टी, फसल और पर्यावरण के आधार पर नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश जैसे मुख्य पोषक तत्वों की सही मात्रा सही समय पर सही अनुपात में दी जाती है, ताकि अधिकतम उत्पादन लिया जा सके. मृदा परीक्षण के आधार पर उर्वरक की उचित मात्रा का सही निर्धारण किया जाता है. फूलों में आपूर्ति की जाने वाली खाद-उर्वरक की सामान्य अनुशंसित मात्रा के बारे में पूरी जानकारी जानने के लिए इस लेख को पढ़ें.

गेंदे का फूल :

गेंदे की खेती पूरे साल व्यावसायिक रूप से की जा सकती है. एक साल के फूलों में गेंदा का प्रमुख स्थान है, इसके फूलों का उपयोग माला, पूजा के गुलदस्ते, सजावट, शादियों, धार्मिक कार्यों, त्योहारों और स्वागत के लिए किया जाता है. त्योहारों और शादियों में इसके फूल बेचकर अच्छी आमदनी प्राप्त की जा सकती है. इसके फूलों से तेल भी प्राप्त होता है.

उर्वरक

सामान्य तौर पर फूलों का अच्छा उत्पादन प्राप्त करने के लिए खेत में 10-15 टन गोबर की खाद के अलावा 100 kg नाइट्रोजन, 80-100 kg फास्फोरस और 80-100 kg गोबर की पहली जुताई के समय पोटैशियम प्रति हेक्टेयर की आवश्यकता होती है, फास्फोरस और पोटेशियम की पूरी मात्रा खेत की आखिरी जुताई के समय मिट्टी में मिला दी जाती है, जबकि नाइट्रोजन की आधी मात्रा 25.30 के बाद पौधे में डाली जाती है.

ग्लैडियोलस:

ग्लैडियोलस नाम लैटिन शब्द ग्लेडियस से लिया गया है जिसका अर्थ है तलवार, क्योंकि इसकी पत्तियों का आकार तलवार जैसा होता है. इसके कंद को फूलों की रानी भी कहा जाता है.

उर्वरक

ग्लैडियोलस में खाद और उर्वरकों का बहुत महत्व है, क्योंकि मिट्टी में पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्वों की कमी से फूलों की उपज और गुणवत्ता कम हो जाती है, साथ ही तैयार होने में अधिक समय लगता है. इसलिए पहली जुताई के समय 50 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की दर से गोबर की पूरी सड़ी हुई खाद को खेत में अच्छी तरह मिला देना चाहिए. गाय के गोबर के पूरी तरह सड़ जाने के बाद ही उसे खेत में डालना चाहिए. हल्की सिंचाई के बाद यूरिया की टॉप ड्रेसिंग बेहतर होती है. इस प्रकार खाद और उर्वरकों के प्रयोग से न केवल अच्छी गुणवत्ता वाले फूल मिलते हैं, बल्कि पौधों की जड़ों में बनने वाले कंदों के आकार और संख्या में भी वृद्धि होती है.

गुलदाउदी:

गुलदाउदी को सेवेंटी और चंद्रमालिका के नाम से भी जाना जाता है. गुलदाउदी के फूलों की बनावट, आकार, प्रकार और रंग में इतनी विविधता है कि शायद ही कोई दूसरा फूल हो. इसके फूल में सुगंध नहीं होती और इसके फूलने का समय भी बहुत कम होता है. फिर भी लोकप्रियता में यह गुलाब के बाद दूसरे स्थान पर है. इसकी खेती मुख्य रूप से कटे हुए (डंठल के साथ) और ढीले (डंठल के बिना) फूलों के उत्पादन के लिए व्यावसायिक पैमाने पर की जाती है. कटे हुए फूलों का उपयोग टेबल की सजावट, गुलदस्ता बनाने, आंतरिक सजावट और ढीले फूलों की माला, वेनी और गजरा के लिए किया जाता है.

उर्वरक

एक हेक्टेयर क्षेत्र के लिए 20-25 टन कम्पोस्ट या गोबर के साथ 100-150 kg नाइट्रोजन, 90-100 kg स्फूर और 100-150 kg पोटेशियम देना चाहिए. गोबर की खाद को खेत की तैयारी के समय मिट्टी में मिला देना चाहिए. नत्रजन की 2/3 मात्रा तथा पोटाश की पूरी मात्रा पौध रोपण के समय मिट्टी में मिला दें. नत्रजन की बची हुई मात्रा बुवाई के 40 दिन बाद या कली निकलने के बाद देनी चाहिए.

रजनीगंधा

बाजार में कंद कटे हुए फूल और ढीले फूल दोनों रूपों में बिकता है. इत्र उद्योग के लिए कच्चे माल के रूप में उपयोग किया जाता है. इसके फूल लंबे समय तक ताजे रहते हैं और बिना खराब हुए लंबी दूरी तक भेजे जा सकते हैं. कंद की फसल के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की मात्रा मिट्टी परीक्षण के बाद ही तय की जानी चाहिए. कंद को पोषक तत्व संतुलित मात्रा में देना चाहिए. किसी भी परिस्थिति में नाइट्रोजन का अधिक मात्रा में प्रयोग नहीं करना चाहिए.

उर्वरक

फास्फोरस की पूरी मात्रा खेत में अंतिम तैयारी के समय डालना चाहिए. जबकि नाइट्रोजन और पोटैशियम को तीन भागों में बांटना चाहिए. पहला कंद रोपण के समय, दूसरा कंद लगाने के 30 दिन बाद और तीसरा कंद लगाने के 90 दिन बाद. यदि रेट्रो फसल ली जाती है तो उर्वरकों की मात्रा का प्रयोग दूसरे वर्ष में भी करना चाहिए.

गुलाब

गुलाब की खेती बहुत लाभदायक है और आसानी से उगाई जाती है. कटे हुए फूल गुलाब जल, गुलाब का तेल, गुलकंद, इत्र की माला, ट्यूलिप, मंदिर और अन्य धार्मिक कार्यों में उपयोग के लिए गुलाब उगाए जाते हैं.

उर्वरक

छंटाई के बाद 10 किलो सड़ी हुई गाय के गोबर को मिट्टी में मिलाकर छंटाई करके अच्छी गुणवत्ता वाले फूल बनाने चाहिए. निषेचन के एक सप्ताह के बाद जब नए अंकुर फूटने लगें तो 200 ग्राम नीम की खली, 100 ग्राम अस्थि चूर्ण और 50 ग्राम रासायनिक खाद प्रति पौधा देना चाहिए, मिश्रण का दो अनुपातों से अनुपात यानि एक यूरिया, सुपरफॉस्फेट, पोटाश होना चाहिए.

English Summary: Method of nutrition management in flowers during winter season

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters