1. बागवानी

अमरूद की खेती करने का तरीका और फायदे

KJ Staff
KJ Staff

Guava

जैसे-जैसे सर्दियां आती हैं, वैसे-वैसे अमरूद की याद भी आने लगती है. अमरूद भारत का एक लोकप्रिय फल है, जिसे अंग्रेजी में अमरूद के नाम से जाना जाता है. बागवानी में अमरूद का अपना ही महत्व है. फायदेमंद, सस्ता और हर जगह मिलने के कारण इसे गरीबों का सेब भी कहा जाता है. यह विटामिन सी, विटामिन बी, कैल्शियम, आयरन और फास्फोरस से समृद्ध होता है.

यह भारत में उगाई जाने वाली चौथी फसल है. वहीं, इसकी खेती देशभर में की जाती है. बिहार, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के अलावा पंजाब और हरियाणा में भी इसकी खेती की जाती है. पंजाब में अमरूद की खेती 8022 हेक्टेयर क्षेत्र में की जाती है और औसत उपज 160463 मीट्रिक टन है. यही कारण है कि इन दिनों अमरूद की बागवानी जोरों पर की जा रही है.

ऐसे में अगर आप भी अमरूद की खेती करना चाहते हैं या इसकी पूरी जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो कृषि जागरण का यह लेख आपके लिए ही है-

मिट्टी का चुनाव

अमरूद एक कठोर किस्म की फसल है और इसके उत्पादन के लिए सभी प्रकार की मिट्टी अनुकूल होती है. जिसमें हल्की से भारी और कम जल निकासी वाली मिट्टी भी शामिल है. खेत की दो बार तिरछी जुताई करें और फिर उसे समतल करें. खेत को इस प्रकार तैयार करें कि उसमें पानी न ठहरे. अच्छी उपज के लिए इसे गहरी मिट्टी, अच्छी जल निकासी वाली बलुई दोमट से चिकनी मिट्टी में बोना चाहिए.

अमरूद की खेती के लिए जलवायु

अमरूद की बागवानी गर्म और शुष्क दोनों जलवायु में की जा सकती है. इसकी बागवानी के लिए 15 से 30 सेंटीग्रेड का तापमान उपयुक्त होता है. जिन क्षेत्रों में एक वर्ष में 100 से 200 सेमी वर्षा होती है, वहां इसकी सफलतापूर्वक खेती की जा सकती है.

बुवाई का का तरीका और समय

अमरूद की बागवानी के लिए अगस्त-सितंबर या फरवरी-मार्च सबसे अनुकूल समय होता है. इसे जम्मू-कश्मीर को छोड़कर भारत के किसी भी हिस्से में उगाया जा सकता है. बरसात के दिनों में अमरूद अच्छी पैदावार देता है. वहीं पौधे लगाने के लिए 6x5 मीटर की दूरी रखें. यदि पौधे वर्गाकार तरीके से लगाए गए हैं, तो पौधों की दूरी 7 मीटर रखें. प्रति एकड़ 132 पौधे लगाए जा सकते हैं.

बीज की गहराई

जड़ों को 25 सेमी. तक की गहराई पर बोना चाहिए.

बुवाई का तरीका

- सीधी बुवाई से
- खेत में रोपाई से
-कलमें लगाकर
-पनीरी लगाकर

फल तुड़ाई का समय

बुवाई के 2-3 साल बाद अमरूद के फूलों में फल लगने लगते हैं. फलों के पूरी तरह से पक जाने के बाद इसकी तुड़ाई करनी चाहिए, पूरी तरह पकने के बाद फलों का रंग हरा से पीला होने लगता है. फलों को अधिक नहीं पकने देना चाहिए, क्योंकि अधिक पकने से फलों का स्वाद और गुणवत्ता प्रभावित होती है.

अमरूद में कीट नियंत्रण

अमरूद में कीट एवं रोग का प्रकोप मुख्यतः वर्षा ऋतु में होता है. जिससे पौधों की वृद्धि और फलों की गुणवत्ता दोनों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. इस पेड़ में मुख्य रूप से छाल खाने वाले कीड़े, फल छेदक, फल देने वाली मक्खियां, शाखा छेदक आदि होते हैं. इन कीटों के प्रकोप से बचने के लिए नीम के पत्तों को उबालकर पानी में छिड़कना चाहिए. यदि आवश्यक हो तो कीटों से संक्रमित पौधों को नष्ट कर देना चाहिए.

रोग नियंत्रण

अमरूद के प्रमुख रोग उत्था रोग, तना कैंसर आदि हैं. मिट्टी की नमी भी रोग को फैलाने में मदद करती है. रोग ग्रस्त पौधे को तुरंत हटाकर नष्ट कर देना चाहिए. स्टेम कैंसर (Physelospora) नामक रोग कवक के कारण होता है. इसकी रोकथाम के लिए रोगग्रस्त शाखाओं को काटकर जाल बिछा देना चाहिए और कटे हुए भाग को ग्रीस लगाकर बंद कर देना चाहिए.

अमरूद की उन्नत किस्में

अमरूद की बागवानी के लिए किस्मों का चुनाव करना बहुत जरूरी है. किसानों को हमेशा जलवायु, मिट्टी, बाजार को ध्यान में रखकर किस्मों का चुनाव करना चाहिए. इलाहाबादी सफेदा, सरदार 49 लखनऊ, सेब जैसे अमरूद, इलाहाबादी सुरखा आदि हैं. इसके अलावा चित्तीदार, लाल फ्लीस, ढोलका, नासिक धारदार आदि किस्में हैं. इलाहाबादी सफेदा बागवानी के लिए सर्वोत्तम है. सरदार-49 लखनऊ व्यावसायिक दृष्टि से सर्वश्रेष्ठ सिद्ध हो रहा है. इलाहाबादी सुरखा अमरूद की एक नई किस्म है. यह प्रजाति एक प्राकृतिक उत्परिवर्ती के रूप में विकसित हुई है.

अमरूद की खेती से मुनाफा

आपको बता दें कि अमरूद की खेती से किसानों को प्रति हेक्टेयर 8 टन से 15 टन तक उत्पादन मिलता है. बाजार में अमरूद की बिक्री में कोई दिक्कत नहीं है. ऐसे में अमरूद की बागवानी से किसान प्रति हेक्टेयर 2-3 लाख तक की आय अर्जित कर सकते हैं.

आपको अमरूद की बागवानी पर यह लेख कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं. साथ ही अन्य जानकारी के लिए कृषि जागरण से जुड़ें रहें.

English Summary: method and benefits of cultivating guava

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters