1. पशुपालन

Sheep Breeds: भेड़ की प्रमुख नस्लें, उनसे फायदे और प्रमुख संस्थाएं

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Sheep Rearing

Sheep Rearing

भेड़ पालन (Sheep Rearing) ग्रामीण अर्थव्यस्था और सामाजिक संरचना से जुड़ा है. इससे हमें मांस, दूध, ऊन, जैविक खाद समेत कई अन्य उपयोगी सामग्री प्राप्त होती है. इनके पालन-पोषण से भेड़ पालकों को अच्छा मुनाफ़ा होता है, इसलिए मौजूदा समय में भेड़ पालन काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है.

आज देश के अधिकतर राज्यों में पशुपालक भेड़ की कई नस्लों का पालन कर रहे हैं, लेकिन आज हम राजस्थान की बात करने वाले हैं कि वहां किस क्षेत्र में भेड़ की कौन-सी नस्ल का ज्यादा पालन होता है. राजस्थान के बाड़मेर जिले में सर्वाधिक भेड़ पाई जाती हैं, तो वहीं बांसवाड़ा में सबसे कम भेड़ पाई जाती हैं. यहां भेड़ की कई प्रमुख नस्लें हैं, तो आइए आपको उनके बारे में विस्तार से बताते हैं.

मगरा नस्ल की भेड़ (Magra Sheep)

यह भेड़ सर्वाधिक बाड़मेर, बीकानेर, जैसलमेर जिलों में पाई जाती है. इनकी ऊन से कालीन (चटाई) बनाई जाती है

मारवाड़ी नस्ल की भेड़ (Marwari Sheep

यह भेड़ सर्वाधिक जैसलमेर, जोधपुर, जयपुर, जालोर, बाड़मेंर, झुन्झुनू, दौसा, सीकर, पाली जिलों में पाई जाती है. यह सभी भेड़ों में से सर्वाधिक रोग प्रतिरोधक क्षमता रखती है.

चोकला नस्ल की भेड़ (Chokla breed of Sheep)

इस भेड़ का सर्वाधिक पालन शेखावाटी, बीकानेर, नागौर, जयपुर में होता है. इस भेड़ की ऊन भारत एवं राजस्थान में सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है, इसलिए चोकला भेड़ को भारत की मेरीनो भी कहा जाता है.

सोनारी नस्ल की भेड़ (Sonari Sheep)

इसका उपनाम चनोथर भेड़ है, जो कि सर्वाधिक बूंदी, झालावाड़, कोटा, उदयपुर जिलों में पाली जाती हैं. इसके कान चरते वक्त जमीन को छुते हैं.

जैसलमेरी नस्ल की भेड़ (Jaisalmeri Sheep)

यब भेड़ जैलमेर जिले में पाई जाती है. यह राजस्थान में सर्वाधिक ऊन देने वाली भेड़ है. सबसे  लम्बी ऊन भी जैलमेरी भेड़ की होती है.

खेरी नस्ल की भेड़ (Kheri Sheep)

राजस्थान में खेरी भेड़ सर्वाधिक जोधपुर, नागौर तथा पाली जिलों में पाई जाती है. यह सफेद ऊन के लिए काफी प्रसिद्ध है.

पूगल नस्ल की भेड़ (Puggle Sheep)

यह भेड़ सर्वाधिक जैसलमेर, बीकानेर तथा नागौर जिलों में पाली जाती है.

नाली नस्ल की भेड़ (Naali Sheep)

इसका पालन सर्वाधिक गंगानगर और हनुमानगढ़ में होता है.

प्रमुख भेड़ संस्थाएं (Major Sheep Organizations)

  • केंद्रीय भेड़ एवं ऊन अनुसंधान संस्थान, अविकानगर, मालपुरा तहसील, टोंक जिला, (राजस्थान)

  • भेड़ एवं ऊन प्रशिक्षण संस्थान, स्थित- जयपुर (राजस्थान)

  • केन्द्रिय ऊन विकास बोर्ड, जोधपुर (राजस्थान)

  • केन्द्रिय ऊन विश्लेषण प्रयोगशाला, बीकानेर (राजस्थान)

English Summary: major breeds of sheep in Rajasthan

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News