1. पशुपालन

सरसों के तेल से बढ़ेगा पशुओं में दूध उत्पादन, जानें इसके बेमिसाल फायदे

सरसों के तेल में मौजूद गुण पशुओं के स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक माने जाते हैं. सरसों के तेल के सेवन से दूध उत्पादन बढ़ेगा...

निशा थापा
निशा थापा
Give mustard oil to animals, milk production will increase and diseases will run away
Give mustard oil to animals, milk production will increase and diseases will run away

Animal Health Care: सरसों का तेल मनुष्य स्वास्थ्य के साथ-साथ पशुओं के लिए भी बेहद लाभदायक माना जाता है. सरसों का तेल शरीर में दर्द को कम करता है, साथ में रोग प्रतोरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है. आपको बता दें कि सरसों का तेल पशुओं को बीमारियों से बचाता है. सरसों के तेल में अच्छी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट होता है, जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है. ऐसे में जब गाय-भैंस का जन्म हो, तो उन्हें तब भी सरसों का तेल दिया जा सकता है. इसी कड़ी में आज हम आपको बताएंगे की आखिर सरसों का तेल दुधारू पशुओं के लिए कैसे फायदेमंद है.

सरसों का तेल पशु का दूध बढ़ाने में कारगर

दुधारू पशुओं के लिए गेहूं के आटे में सरसों का तेल मिलाकर खिलाएं. यह मिश्रण पशुओं में दूध बढ़ाने की दवा के तौर पर काम करता है. ध्यान रहे कि मिश्रण के लिए आटे व सरसों के तेल की मात्रा समान होनी चाहिए. मिश्रण को अपने दुधारू पशुओं को शाम को चारा खिलाने के बाद ही खिलाएं और इसके साथ पानी न पिलाएं. जिसके बाद आपका पशु पहले की तुलना में अधिक दूध देगा.

सरसों का तेल दर्द को करता है दूर

सरसों का तेल दर्द से निजात मिलाने का भी काम करता है. यदि आपका पशु किसी कारणवस दर्द से कराह रहा है, तो आप अपने पशु को सरसों के तेल का सेवन करवाएं, सरसों के तेल से पशु को दर्द से राहत मिलेगी.

सरसों का तेल रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है

मानसून बारिश के साथ कई बीमारियां भी लेकर आता है. ऐसे में आपको अपने पशुओं का पहले से ही ध्यान रखना चाहिए कि वह बीमार ना पड़े. कहते हैं कि इलाज से बेहतर एहतियात है. यदि आप भी पहले से ही अपने पशु के प्रति एहतियात बरतेंगे, तो आपको पशु बीमार नहीं होगा. जिसके लिए आप अपने पशुओं को तेल का सेवन करवाएं, जिससे की पशु में रोग से लड़ने की क्षमता बनी रहेगी और आपका पशु बीमार नहीं पड़ेगा.

सरसों का तेल पाचन क्षमता होती है मजबूत

यदि हमारा पाचन तंत्र सही है, तो हमारा स्वास्थ्य भी सही रहता है. ऐसा ही पशुओं के साथ भी है, सरसों के तेल के सेवन से पशुओं की पाचन प्रक्रिया सही और मजबूत बनी रहती है, जिससे उन्हें पेट संबंधी बीमारियों से निजात मिलता है और साथ ही उनके बछड़े भी स्वस्थ्य रहते हैं,

सरसों का तेल भूख बढ़ाने में कारगर

कभी ऐसा देखा जाता है कि पशु किसी बीमारी से ग्रसित होता है, जिसके बाद वह चारा भी नहीं खा पाता है. यानि कहें कि पशु की भूख मिट जाती है. सरसों के तेल से इससे निजात पाया जा सकता है. सरसों का तेल बीमारी तो दूर करता ही है साथ में वह पशु की भूख भी बढ़ाता है.

यह भी पढ़ें: Clean Milk Production: स्वच्छ दूध का उत्पादन प्राप्त करने के जरूरी उपाय, पढ़ें पूरी जानकारी

कब देना चाहिए पशुओं को सरसों का तेल

  • पशु जब थका हो उसे सरसों का तेल पिलाएं, जिससे उसकी थकान कम होगी और साथ में बीमारी के खतरे को भी दूर रखता है.

  • पशुओं को गर्मियों के दिनों में सरसों के तेल का सेवन करवाना चाहिए, जिससे पशुओं को लू व गर्मी से बचाया जा सकता है.

  • तो वहीं इसके विपरीत सर्दियों में भी पशुओं के लिए सरसों के तेल का सेवन लाभदायक होता है. सर्दियों में ठंड से बचाव कतने में कारगर है.

  • मानसून व बारिश के दौरान बीमारियों से बचाव के लिए सरसों का तेल लाभदायक है.

English Summary: Give mustard oil to animals, milk production will increase and diseases will run away Published on: 03 August 2022, 04:07 IST

Like this article?

Hey! I am निशा थापा . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News