MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सरकारी योजनाएं

तारबंदी योजना: आवारा जानवरों से फसलों की सलामती के लिए किसानों को मिलेंगे 48000 रुपये , 30 मई से होंगे आवेदन

आवारा पशुओं के कारण खेती की फ़ासल को काफी नुकसान पहुँचता है, जिससे किसानों को काफी नुकसान होता है, ऐसे में सरकार ने किसानों की मदद के लिए तारबंदी योजना ( Tarbandi Yojana) की शुरुआत की है.

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा

खेतों में फसलों की बुवाई करने के बाद किसानों को यहीं चिंता रहती है कि मौसम की वजह से फसल बर्बाद न हो जाए, या फिर कीट या रोग ना लग जाए. लेकिन ज्यादातर किसानों की एक और बड़ी समस्या होती है. वो है खेतों में खड़ी फसल पर आवारा जानवरों का हमला. यह बिन बुलाए मेहमान की तरह होते हैं जो सिर्फ और सिर्फ किसानों को नुक्सान पहुंचता है.  

वर्त्तमान समय की बात करें तो खेती में मशीनों का इस्तेमाल बड़ी तादाद में किया जा रहा है. जिसके चलते खेती करने के लिए पशुओं की भूमिका लगभग खत्म सी हो गई है. इसलिए अब खेत हो या सड़कें  झुंड में गाय, बैल, सूकर और नील गाय खुले में घूमते दिख रहे हैं.

जिस वजह से ये जानवर किसानों के लिए एक बड़ी समस्या बनते जा रहे हैं. इसलिए इनसे बचने के लिए ज्यादातर किसानों ने अपने खेतों में तारबंदी करवानी शुरू कर दी है. पर अभी भी ऐसे कई किसान है जो आर्थिक रूप से इतने सक्षम नहीं हैं कि वे तारबंदी करवा सकें. ऐसे में सरकार ने कमजोर वर्ग के किसानों के लिए तारबंदी योजना (Tarbandi Yojana) शुरुआत की है, तो आइए आपको तारबंदी योजना के लाभ, पात्रता, ज़रूरी दस्तावेज और आवेदन से जुड़ी जानकारी देते हैं.

तारबंदी योजना से क्या मिलेगा लाभ (What will be the benefit of Tarbandi scheme)

  • किसान अपने खेतों में तारबंदी करके खेतों को जानवरों से बचा सकते हैं.

  • इस योजना के तहत तारबंदी का 50% खर्चा राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा. जबकि शेष 50% योगदान किसान का होगा. इसमें अधिकतम 40,000 रुपये तक का खर्च राज्य सरकार द्वारा किया जाएगा.

  • इस योजना का राज्य के छोटे ओर सीमांत किसानों को लाभ प्रदान किया जाएगा.

  • अधिकतम 400 मीटर तक की तारबंदी के लिए ही सब्सिडी दी जाएगी.

  • इसके लगने के बाद आवारा पशु फसलों को बर्बाद नहीं कर पाएंगे.

तारबंदी योजना के लिए कौन कर सकते हैं आवेदन (Who can apply for Tarbandi Scheme)

  • योजना के अंतर्गत जो भी राज्य शामिल है, किसानों को उस राज्य का स्थायी निवासी होना अनिवार्य है.

  • किसान के पास 0.5 हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि होनी चाहिए.

  • आवेदक का बैंक अकाउंट होना चाहिए.

  • अगर आप पहले से ही किसी अन्य योजना का लाभ ले रहे हैं, तो इस योजना के लिए पात्र नहीं होंगे है.

तारबंदी योजना के लिए क्या है जरूरी दस्तावेज़ (What are the documents required for tarbandi scheme)

  • आधार कार्ड (Aadhar Card)

  • पहचान पत्र (Identity Proof)

  • निवास प्रमाण पत्र (Address Proof)

  • जमीन की जमाबंदी (Land Settlement)

  • मोबाइल नंबर (Mobile Number)

  • पासपोर्ट साइज फोटो (Passport Size Photo)

  • राशन कार्ड (Ration Card)  

अब 40 हजार की जगह मिलेगी 48 हजार रूपये तक की सब्सिडी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तारबंदी योजना में वर्ष 2022 में कुछ परिवर्तन किए गए हैं. जिसमें अब किसान इसके लिए आवेदन कल यानि 30 मई से आसानी से कर सकेंगे.  इसके अलावा राजस्थान सरकार किसानों की फसलों को आवारा पशुओं व नीलगाय से होने वाले नुकसान से बचाने और मदद करने के लिए चैन लिंक तारबंदी (Chain Link Wire) के लिए 48 हजार रूपये तक की सब्सिडी मुहैया करवाएगी. जोकि पहले 40 हजार रुपये थी. इस सब्सिडी के लिए अप्लाई करने वाले किसानों को अपने आवेदन 30 मई, 2022 से ऑनलाईन देने होंगे. जिसके बाद से ही वे इसके लिए सब्सिडी की राशि प्राप्त कर सकते हैं.

कैसे करें तारबंदी योजना के लिए आवेदन

  • इसके लिए किसान को यह आवेदन ऑनलाइन करना होगा या फिर किसी नज़दीकी ई-मित्र केंद्र पर जाकर भी कर सकते हैं. 

  • इसके अलावा इच्छुक किसान राज किसान साथी पोर्टल से भी ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

  •  तारबंदी अनुदान योजना के सम्बन्ध में अधिक जानकारी पाने के लिए आप निकटतम कृषि कार्यालय में सम्पर्क कर सकते हैं या फिर राज किसान साथी हेल्प लाईन नम्बर 0141-2927047 पर कॉल करके भी जानकारी ले सकते हैं.

English Summary: Tarbandi Scheme 2022: Farmers can take advantage of this scheme for the well being of crops, know all the information related to it Published on: 10 January 2022, 04:47 IST

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News