आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे

Kisan Credit Card Loan Scheme: लोन लेना है बेहद आसान, जानें बुनियादी नियम, लाभ, बीमा योजना, ब्याज दर और ब्याज सब्सिडी !

केंद्र व राज्य सरकार ने किसानों के कल्याण के लिए विभिन्न योजनाएं शुरू किया है, लेकिन वास्तविकता यह है कि बहुत कम ही उचित कार्यान्वयन के साथ किसान इससे लाभान्वित होते हैं. कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रमुख क्षेत्र है और फसली ऋण कृषि उत्पादन को बढ़ाने में मदद करता है जो स्पष्ट रूप से टिकाऊ और लाभदायक कृषि प्रणालियों को बढ़ाने में मदद करता है. दूसरी ओर, वाणिज्यिक बैंकों के माध्यम से किसानों, मुख्य रूप से छोटे और सीमांत किसानों को कम ब्याज और पर्याप्त फसल ऋण की उपलब्धता न केवल उनकी फसलों की उत्पादकता बढ़ाने में मदद करती है, बल्कि उनकी आर्थिक स्थिति को भी मजबूत करती है. भारत सरकार अधिक से अधिक लोगों के साथ जुड़ने की कोशिश कर रही है और उनसे कहा है कि वे अपने कृषि परिदृश्य को बेहतर बनाने के लिए वाणिज्यिक बैंकों से बैंकिंग प्रणाली और फसल ऋण का उपयोग करें.यहां, हम किसान क्रेडिट कार्ड के मुख्य दिशा-निर्देशों पर चर्चा करेंगे: -

फसल ऋण घटक का आकलन (Assessment of crop loan component)

फसल के लिए वित्त + बीमा किस्त × फसल क्षेत्र सीमा + फसल के बाद / घरेलू उपयोग के लिए ऋण सीमा का 10 प्रतिशत / कृषि जरूरतों के रखरखाव के खर्च के लिए 20% का उपयोग करें.

किसान क्रेडिट कार्ड ऋण योजना के लिए कौन पात्र है? (Who is eligible for a Kisan Credit Card Loan Scheme?)

खेती से जुड़ा कोई भी व्यक्ति चाहे वह अपने खेत में खेती करता हो या किसी और की जमीन पर काम कर रहा हो, वह केसीसी बनवा सकता है. किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने वाले व्यक्ति की लोन की अवधि समाप्त होने तक न्यूनतम उम्र 18 साल और अधिकतम 75 साल होना चाहिए. 60 साल से ज्यादा उम्र के आवेदक के लिए एक सह-आवेदक होना जरूरी है.

किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज (Documents Required To Apply For Kisan Credit Cards)

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के दिशानिर्देशों के अनुसार, किसान क्रेडिट कार्ड के लिए लोन जारीकर्ता बैंक के आंतरिक दिशानिर्देशों के अनुसार दस्तावेज होना चाहिए. इसलिए, प्रत्येक बैंक के पास आवश्यक दस्तावेजों का एक अलग सेट है.

निम्नलिखित दस्तावेज किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करते समय आवश्यक हैं:-

  • विधिवत भरे हुए और हस्ताक्षरित आवेदन पत्र

  • पहचान प्रमाण की प्रति जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, आदि.

  • एड्रेस प्रूफ डॉक्यूमेंट की कॉपी जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस. प्रमाण के पास वैध होने के लिए आवेदक का वर्तमान पता होना चाहिए.

  • जमीन के दस्तावेज.

  • आवेदक का पासपोर्ट आकार का फोटो

  • जारीकर्ता बैंक द्वारा अनुरोध किए गए अन्य दस्तावेज जैसे सुरक्षा पीडीसी.

किसान क्रेडिट कार्ड के निम्नलिखित लाभ हैं – (The Kisan Credit Card has the following benefits )

  • लचीले पुनर्भुगतान विकल्प और परेशानी मुक्त संवितरण प्रक्रिया.

  • सभी कृषि और सहायक आवश्यकताओं के लिए एकल ऋण सुविधा / सावधि ऋण.

  • खाद, बीज आदि की खरीद में सहायता के साथ-साथ व्यापारियों / डीलरों से नकद छूट प्राप्त करने में सहायता.

  • क्रेडिट 3 साल तक की अवधि के लिए उपलब्ध होता है और फसल कटाई का मौसम पूरा होने पर पुनर्भुगतान किया जा सकता है.

  • देश भर में बैंक की किसी भी शाखा से फंड निकाला जा सकता है.

किसान क्रेडिट कार्ड ऋण योजना की मुख्य विशेषताएं: (Salient Features of Kisan Credit Card Loan Scheme)

नीचे दिए गए कुछ क्रेडिट फीचर किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत उपलब्ध हैं जो आरबीआई द्वारा अनिवार्य हैं:-

  • किसान क्रेडिट कार्ड के लिए पात्र सभी किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड के अलावा एक स्मार्ट कार्ड सह डेबिट कार्ड जारी किया जाएगा.

  • निकाली गई राशि की किस्तों को 12 महीने के भीतर चुकाना होगा.

  • वार्षिक समीक्षा के आधार पर, बैंक मौजूदा क्रेडिट कार्ड की वैधता का निर्धारण करेंगे.

  • क्रेडिट कार्ड के उपयोग पर अच्छे रिकॉर्ड के लिए प्रोत्साहन के रूप में क्रॉपिंग पैटर्न में परिवर्तन, परिचालन लागत में वृद्धि आदि को समायोजित करने के लिए जारीकर्ता बैंक के द्वारा क्रेडिट सीमा को बढ़ाया जा सकता है.

  • प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसलों को हुए नुकसान के मामले में ऋणों का रूपांतरण / पुनर्निर्धारण भी अनुमन्य है.

किसान क्रेडिट कार्ड के ब्याज पर अनुदान (Grant on Kisan Credit Card Interest)

भारत सरकार ने वर्ष 2006-07 में किसानों को फसली ऋण पर ऑंकलित ब्याज पर अनुदान की योजना प्रारम्भ की थी, जिसके तहत बैंकों द्वारा किसानों  को फसली ऋण पर, 3.00 लाख रुपए की सीमा तक, 7 प्रतिशत वार्षिक ब्याज पर ऋण की सुविधा प्रदान की गयी है. समय से या उसके पूर्व ऋण की अदायगी पर किसानों को वर्तमान में 3 प्रतिशत की अतिरिक्त ब्याज दर पर छूट प्रदान की जा रही है. अतः जो किसान अपने फसली ऋण को समय से या उसके पूर्व अदा करते हैं तो उन्हें केवल 4 प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर से ब्याज देना पड़ेगा. किसानों को अपनी फसल को परिस्थितिवश विक्रय (Distress Sell) से रोकने एवं अनाज को गोदामों में रखने एवं गोदामों के रसीद पर, किसानों को फसल कटाई के उपरान्त अगले 6 माह तक उन्हें फसली ऋण पर ब्याज दर की वही छूट प्रदान की जायेगी जो फसल अवधि के समय फसली ऋण पर प्रदान की जा रही थी, अर्थात् उन्हें 4 प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर से ब्याज देना पड़ेगा. यह सुविधा केवल किसान क्रेडिट कार्ड धारक सीमान्त एवं लघु श्रेणी के किसानों को उपलब्ध होगी. किसान क्रेडिट कार्ड धारकों को दुर्घटना बीमा योजना से कवर प्रदान करना.

किसान क्रेडिट कार्ड धारकों को दुर्घटना बीमा योजना (Kisan Credit Card holders Accident Insurance Scheme)

किसान क्रेडिट कार्ड धारकों को दुर्घटना बीमा योजना से कवर प्रदान किया गया है. इसके अन्तर्गत यदि किसान की किसी वाह्य दुर्घटना के कारण मृत्यु हो जाती है या स्थायी/अस्थायी अपंगता का शिकार हो जाता है तो उसे  क्षतिपूर्ति निम्नानुसार अदा की जायेगी-

1.मृत्यु - रू० 50,000

2.स्थायी अपंगता रू० - 50,000

3.दोनों अंग या दोनों आँख या एक अंग और एक आँख रू० - 50,000

4.एक अंग या एक आँख रू० - 25,000

इसके लिए एक साल या तीन साल का बीमा कराया जा सकता है. एक साल की पालिसी के लिए रू० 15 प्रीमियम के रूप में देय है और तीन साल की पालिसी के लिए प्रीमियम की धनराशि रू० 45 देय है.

English Summary: Kisan Credit Card Loan Scheme: Taking a loan is very easy, learn basic rules, benefits, insurance scheme, interest rate and interest subsidy

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News